Mango Man: पहले कभी नहीं देखा होगा ऐसा आम का पेड़ जिसमे लगते है 300 किस्म के आम जानिए कहा है यह आम

www.hoshangabadmedia.com 5

Mango Man: पहले कभी नहीं देखा होगा ऐसा आम का पेड़ जिसमे लगते है 300 किस्म के आम जानिए कहा है यह आम,लखनऊ का ये पेड़ अनोखा पेड़ इस लिए खास है क्योंकि इस एक पेड़ पर अलग-अलग करीब 300 किस्म के आम लगते हैं। जी हां, ये सुनने में भले ही आपको नामुमकिन लग रहा होगा, लेकिन वास्तव में इस पेड़ का इजाद किया गया है। ये खास पेड़ लखनऊ से कुछ किलोमीटर दूर मलिहाबाद चौराहे के पास है।


Mango Man

गर्मियों का दौर और तपती धूप से राहत पहुँचाने के लिए आम, अब आम का सीजन हो और आम की बातें न हो ऐसा तो हो नहीं सकता। दरअसल इन दिनों इंटरनेट पर एक आम का पेड़ सेंसेशन बना हुआ है जिसमे बताया जा रहा है की कैसे एक ही पेड़ से 300 किस्म के आम निकलते है अब इसके पीछे क्या कहानी है हाँ आगे समझाते हैं। 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक लखनऊ में एक यूनिक आम का पेड़ है जो काफी चर्चा में रहता है. इस आम के पेड़ की खासियत है कि इस एक पेड़ में ही करीब 300 किस्म के आम लगते हैं. यह पेड़ लखनऊ से कुछ किलोमीटर दूर मलिहाबाद चौराहे के पास मौजूद है। 

कैसे तैयार किया पेड़

Mango Man: पहले कभी नहीं देखा होगा ऐसा आम का पेड़ जिसमे लगते है 300 किस्म के आम जानिए कहा है यह आम,अगर हम बताएं की इस जादू के पीछे कौन हैं तो वो हैं लखनऊ शहर के रहने वाले हाजी कलीम उल्लाह खान जिन्होंने बड़ी मशक्कत के साथ एक ऐसा पेड़ इजाद किया उन्होंने ग्राफ्टिंग तकनीक का सहारा लेकर एक ऐसा पेड़ इजाद किया जिसमें 300 किस्म के आम लगते हैं। इस काम के लिए राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल द्वारा पद्मश्री से भी सम्मानित किया जा चुका है। 


Read Also: पेट्रोलियम कंपनियों ने जारी किया पेट्रोल डीजल का ताजा रेट, इन शहरों में कम हुए पेट्रोल के रेट,देखे

Mango Man: पहले कभी नहीं देखा होगा ऐसा आम का पेड़ जिसमे लगते है 300 किस्म के आम जानिए कहा है यह आम

images 15 2

Read Also: Gold Silver Price: सोने ने तोडा रिकॉर्ड सोच बी नहीं सकते इतना सस्ता हुआ सोना जानिए भाव

मैंगो मैन के नाम से जाना जाने लगा

हाजी कलीम साहब ने  17 साल की उम्र में ही एक पौधा इजाद किया था जिसमें करीब 7 किस्म के आम लगते थे. इतना ही नहीं, आम पर किए गए काम को लेकर हाजी कलीम साहब को दुनिया में लोग मैंगो मैन (Mango Man) के नाम से भी जानते हैं. इस विचित्र पेड़ में जो भी आम लगते हैं, उसे बेचा नहीं जाता बल्कि लोगों में बांट दिया जाता है।