गौतम अडानी की होने वाली बहु है हीरा व्यापारी की बेटी, जानिए अडानी के छोटे बेटे जीत के बारे में

adani 1020 1678791544

गौतम अडानी की होने वाली बहु है हीरा व्यापारी की बेटी, अडानी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अडानी के छोटे बेटे जीत की सगाई हो गई है. लो की सेरेमनी में जीत अडानी ने हीरा व्यापारी की बेटी दिवा जैमिन शाह को अंगूठी पहनाई. सगाई का ये कार्यक्रम अहमदाबाद में रखा गया था, जहां केवल परिवार और कुछ चुनिंदा दोस्तों ने शिरकत की. हालांकि अभी शादी की तारीख की जानकारी सामने नहीं आई है।


दीवा हीरा कारोबारी जैमिन शाह की बेटी हैं. दिवा के पिता जैमिन डायमंड कंपनी सी दिनेश एंड को-प्राइवेट लिमिटेड के मालिक हैं. ये कंपनी मुंबई और सूरत में स्थित है. इसकी स्थापना चीनू दोशी और दिनेश शाह ने की थी. फिलहाल जिगर दोशी,अमित दोशी, योमेश शाह, जैमिन शाह इस कंपनी के डायरेक्टर्स है।

adani second son

यह भी पढ़े:- Ladli Bahna Yojana: लाड़ली बहना योजना का लाभ उठाने के लिए महिलाओ को सरकार के इस दायरे में होना जरुरी, जानिए नियम व शर्ते

गौतम अडानी के छोटे बेटे है जीत

गौतम अडानी के छोटे बेटे जीत का जन्म 7 नवंबर 1997 को गुजरात में हुआ था. 2019 में जीत अडानी ग्रुप का हिस्सा बने. अडानी समूह में शामिल होने के वक्त जीत की उम्र 23 साल की थी. जीत ने पेंसिल्वेनिया यूनिवर्सिटी से स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग एंड एप्लाइड साइंसेज में ग्रेजुएशन किया है. अडानी ग्रुप में उन्होंने ग्रुप सीएफओ के तौर पर अपना काम शुरू किया था. जीत अडानी एयरपोर्ट्स बिजनेस के साथ-साथ अडानी डिजिटल लैब्स का भी नेतृत्व करते हैं. 2019 में उन्हें फाइनांस ग्रुप का वाइस प्रेसिडेंट नियुक्त किया गया. जो अडानी ग्रुप के फाइनांस का लेखा जोखा रखता है. जीत की दिलचस्पी प्लेन उड़ाने में भी है।

6337b7028d

यह भी पढ़े:- सारी दुनिया के सामने रेखा ने कबूल कर लिया था अपना प्यार, बोली- उनके प्यार के आगे सारे जहां का प्यार भी फीका

जानिए जीत की सगाई के बारे में

जीत अडानी की सगाई ऐसे समय में हुई है जब अडानी ग्रुप अमेरिकी शॉर्ट सेलर हिंडनबर्ग रिसर्च की पोर्ट-टू-पावर समूह के खिलाफ रिपोर्ट से भारी गिरावट से जूझ रहा है. स्टॉक में हेरफेर और टैक्स हेवन के अनुचित प्रयोग के आरोप की वजह से अडानी ग्रुप को $100 बिलियन का नुकसान हो चुका है. वहीं अडानी ने शॉर्ट सेलर फर्म से कानूनी लड़ाई लड़ने की तैयारी के साथ ही अपना पूरा फोकस डैमेज कंट्रोल पर लगा दिया है. हालांकि हिंडनबर्ग रिसर्च की वजह से अडानी को 51% से अधिक का नुकसान हुआ है।