गेहूँ के दामो में आयी भारी भरकम गिरावट रेट जान किसानो के उड़े होश जानिए

Wheat Prices 1024x567 1

गेहूँ के दामो में आयी भारी भरकम गिरावट रेट जान किसानो के उड़े होश जानिए,प्रबंधन निदेशक ने कहा है कि खुले बाजार में गेहूं की चल रही बिक्री से तो कीमत में गिरावट शुरू हो गई। उम्मीद है कि 1 हफ्ते में खुदरा कीमतों पर दिखाई देगा भारतीय खाद्य निगम ने थोक उपभोक्ताओं को 18 लाख टन गेहूं बेच दिया है।


जिसमें बोलीदाताओं ने पहले ही 11 लाख टन खरीद लिया था। एफसीआई को खुले बाजार बिक्री योजना के तहत उपभोक्ता को 15 मार्च तक साप्ताहिक नीलामी के जरिए 45 लाख टन बेचने को कहा गया है ताकि गेहूं और आटे की कीमतों पर लगाम लगाई जा कब की जा सके।

गेहूँ के दामो में आयी भारी भरकम गिरावट रेट जान किसानो के उड़े होश जानिए

गेहूँ के दामो में आयी भारी भरकम गिरावट रेट जान किसानो के उड़े होश जानिए

लगभग 11 लाख टन गेहूं का उठाव हो चुका है

सरकार द्वारा इस योजना गेहूँ की बिक्री के भाव में कमी की गई है।अब तक लगभग 11 लाख टन गेहूं का उठाव हो चुका है। इसका असर थोक कीमतों में पहले से ही दिखाई दे रहा है। यह कम होना शुरू हो गया है … खुदरा कीमत पर असर आने में समय लगेगा। उम्मीद है कि इस सप्ताह आप खुदरा कीमतों में गिरावट देख पाएंगे।

गेहूँ के दामो में आयी भारी भरकम गिरावट

इस समय गेहूँ की कीमतों में भारी गिरावट देखने मिल रही है और अब ज्यादातर मंडियों में यह 2,200-2,300 रुपये प्रति क्विंटल के आसपास है। उन्होंने कहा कि दक्षिणी और उत्तर पूर्वी क्षेत्र में खरीदारों द्वारा अधिकतम मात्रा में खरीदारी की गई है। चूंकि बड़ी संख्या में खरीदारों ने कम मात्रा में गेहूं खरीदा है, इसलिए गेहूं की उपलब्धता में सुधार होगा. उन्होंने कहा, ‘हमें उम्मीद है कि इससे पूरे देश में कीमतें सामान्य हो जाएंगी।’ उन्होंने कहा कि ओएमएसएस गेहूं की जमाखोरी का कोई सवाल ही नहीं है।


यह भी पढ़िए:शराब घोटाले मामले में मनीष सिसोदिया की गिरफ्तारी के बाद,आप पर CBI शिकंजा

गेहूँ के दामो में आयी भारी भरकम गिरावट रेट जान किसानो के उड़े होश जानिए

गेहूं खरीदी का भुगतान 1 edited

यह भी पढ़िए: बबिता जी रात भर का कितना करती है चार्ज इस सवाल का जवाब जान लोग हो रहे हैरान मुनमुन दत्ता ने दिया करारा जवाब

FCI के तहत की गई गेहूँ की बिक्री

गेहूँ के दामो में आयी भारी भरकम गिरावट रेट जान किसानो के उड़े होश जानिए,गेहूँ के दाम 3000 पार चले गए थे। जिससे आटे के दाम में भी वृद्धि हुई थी। इसका कारण ई-नीलामी के पहले तीन दौर में 1,200 से अधिक खरीदारों ने भाग लिया था। अधिकतम बोली लगाने वाले छोटे थोक खरीदार थे. उन्होंने 100-500 टन के लिए बोली लगाई। मीणा ने कहा, ‘इसके अलावा, छोटे थोक खरीदार जमाखोरी नहीं कर सकते क्योंकि उनके पास एफसीआई की तरह संरक्षित करने की क्षमता नहीं है। उन्हें तुरंत प्रसंस्करण करना होगा और निपटान करना होगा।