Indira Gandhi Matritva Poshan Yojana Apply Online, Matritva Poshan Yojana Amount: राज्य व केंद्र सरकार मातृत्व को सुदृढ़ बनाने व जच्चा बच्चा को सुरक्षित रखने के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है। आज भी देश में लाखों महिलाए हैं, जो गर्भावस्था के दौरान आर्थिक तंगी के कारण पोषक तत्वों की कमी के चलते गर्भ में पल रहे बच्चे का ध्यान नहीं रख पाती, जिसके चलते शिशु जन्म के बाद गंभीर बीमारियों से ग्रस्त हो जाता है। ऐसे में माता व शिशु के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए राजस्थान सरकार इंदिरा गांधी मातृत्व योजना (Indira Gandhi Matritva Poshan Yojana) लेकर आई है। इस योजना की शुरुआत पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की 103वीं जन्म जयंती पर की गई थी। इस योजना का उद्देश्य गर्भवती महिलाओं के बेहतर स्वास्थ्य एवं पोषण संबंधी जरूरतों को पूरा करना है। तथा महिलाओं को आत्मनिर्भर व सशक्त बनाना है।
इस योजना के तहत प्रदेश सरकार द्वारा दूसरी संतान को जन्म देनी वाली महिलाओं को 6000 रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की (Indira Gandhi Matritva Poshan Yojana Amount) जाती है। यह राशि 5 चरणों में दी जाती है। बता दें शुरुआत में यह योजना केवल चार जिलों में लागू की गई थी, लेकिन अब इसे पूरे प्रदेश में लागू कर दिया गया है।
इस योजना के अंतर्गत गर्भवती महिलाओं को पांच किस्तों में 6000 रुपये दिए जाते हैं। पहली किस्त गर्भवस्था स्क्रीनिंग और पंजीकरण के बाद दी जाती है। दूसरी किस्त गर्भ अवस्था के दूसरे टेस्ट के बाद दिया जाता है। जबकि तीसरी किश्त प्रसव के समय दिया जाता है। हालांकि योजना का लाभ केवल राजस्थान की महिलाएं उठा सकती हैं।

इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना क्या है

आज भी देश में लाखों महिलाएं हैं, जिन्हें गर्भावस्था के दौरान ना तो पोषण मिल पाता है और ना ही उनकी देखरेख हो पाती है। वहीं कई महिलाओं को आर्थिक तंगी के चलते गर्भावस्था के दौरान भी काम करने के लिए विवश होना पड़ता है। ऐसी महिलाओं के लिए राजस्थान सरकार ने इंदिरा गांधी मातृत्व योजना की शुरुआत की है। इस योजना के तहत गर्भवती महिलाओं को पांच किस्तों में 6000 रुपये दिए जाते हैं ताकि महिलाएं अपने साथ गर्भ में पल रहे शिशु का भी ध्यान रख सकें। ध्यान रहे इस योजना का लाभ राजस्थान की महिलाएं ही उठा सकती हैं। साथ ही मिलने वाली किश्त सीधे गर्भवती महिलाओं के खाते में जाती है।

पांच किस्तों में 6000 रुपये

इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना के तहत पांच किस्तों में 6000 रुपये देने का प्रावधान हैं। पहली किस्त 1000 रुपये गर्भावस्था की जांच कराने के तुरंत बाद दिया जाता है, दूसरी किस्त 1000 रुपये प्रसव के पहले जांच के बाद दिया जाता है, तीसरी किस्त आवेदन करने वाली महिलाओं को प्रसव के बाद दिया जाता है। वहीं बच्चे के जन्म के 105 दिन बाद चौथी किस्त के रूप में 2000 रुपये दिए जाते हैं और बच्चे के जन्म के 3 महीने के बाद पांचवी व अंतिम किस्त 1000 रुपये दी जाती है

क्या है नियम व शर्तें

  • महिला का राजस्थान का मूल निवासी होना चाहिए।
  • आवेदन करने वाली महिला का बैंक में खाता होना अनिवार्य है।
  • स्क्रीनिंग में गर्भावस्था की पुष्टि होनी चाहिए।
  • यहां बीपीएल व आरक्षित वर्ग की महिलाओं को अधिक वरीयता दी जाती है।
  • ध्यान रहे किसी दूसरे राज्य की महिला आवेदन के लिए पत्र नहीं होंगी।
  • आवेदक के पास आवेदन कि लिए सभी दस्तावेजों का होना अनिवार्य है।
महत्वपूर्ण दस्तावेज
  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • बीपीएल कार्ड
  • पहचान पत्र
  • स्क्रीनिंग के टेस्ट की कॉपी
  • बैंक पासबुक की फोटोकॉपी
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
Indira Gandhi Matritva Poshan Yojana, ऑनलाइन आवेदन कैसे करें
  1. सबसे पहले wcd.gov.in पर जाएं।
  2. होमपेज पर जाकर योजनाएं/ सेवाएं पर क्लिक करें।
  3. यहां इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना पर क्लिक करें।
  4. आपके सामने रजिस्ट्रेशन फॉर्म आ जाएगा।
  5. यहां अपना रजिस्ट्रेशन करें, पंजीकरण संख्या व पासवर्ड मोबाइल पर एसएमएस के माध्यम से आ जाएगा।
  6. इसके बाद आवेदन फॉर्म पूरा भरें, मांगे गए सभी दस्तावेज स्कैन कर अपलोड करें।
  7. सबमिट पर क्लिक करें, आपका आवेदन फॉर्म स्वीकार कर लिया जाएगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *