पीएम मोदी ने जारी किए बाघों के नए आंकड़े, कहा- ‘प्रकृति का संरक्षण, हमारी संस्कृति का हिस्सा’

15

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बाघों के नए आंकड़े जारी किए हैं। इस नए डेटा के मुताबिक साल 2022 में देश में बाघों की संख्या बढ़कर 3167 हो गई है. पहले यह आंकड़ा 2967 था। इस प्रकार देश में बाघों की संख्या में 200 की वृद्धि हुई है। प्रोजेक्ट टाइगर के 50 साल पूरे होने पर प्रधानमंत्री मोदी ने इंटरनेशनल बिग कैट्स अलायंस (IBCA) लॉन्च किया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने एक स्मारक सिक्का भी जारी किया।

पीएम मोदी ने बाघों की गिनती जारी की
पीएम मोदी ने बाघों की गिनती जारी की

इस कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव ने कहा कि देश में बाघों के संरक्षण की शुरुआत वर्ष 1973 में नौ बाघ आरक्षित क्षेत्रों से हुई थी. आज इनकी संख्या 53 टाइगर रिजर्व तक पहुंच गई है। इनमें से 23 टाइगर रिजर्व को अंतरराष्ट्रीय मान्यता मिल चुकी है। बता दें कि साल 1973 में तत्कालीन इंदिरा गांधी सरकार ने प्रोजेक्ट टाइगर की शुरुआत की थी। 1 अप्रैल को इस प्रोजेक्ट को 50 साल पूरे हो गए। IBCA के तहत बाघ, शेर, तेंदुआ, जगुआर, चीता, प्यूमा के संरक्षण पर फोकस रहेगा।

 

कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि ‘प्रोजेक्ट टाइगर ने देश में बाघों के संरक्षण और संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाई है. प्रकृति की रक्षा भारतीय संस्कृति का हिस्सा है। प्रोजेक्ट टाइगर की सफलता न केवल भारत के लिए बल्कि पूरे विश्व के लिए गर्व की बात है। भारत ने आजादी के 75 साल पूरे कर लिए हैं और साथ ही दुनिया के 75 फीसदी बाघ भारत में रहते हैं।

पीएम मोदी ने बाघों की गिनती जारी की
पीएम मोदी ने बाघों की गिनती जारी की

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत दुनिया में एशियाई शेरों का एकमात्र घर है। देश में शेरों की संख्या भी बढ़ रही है। साल 2015 में देश में 525 शेर थे और 2020 में यह बढ़कर 675 हो गए। पिछले चार सालों में छिपकलियों की संख्या में भी 60 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हम एक महत्वपूर्ण क्षण देख रहे हैं जब प्रोजेक्ट टाइगर 50 साल पूरे कर रहा है। भारत ने न केवल बाघों को बचाया बल्कि उन्हें ऐसा वातावरण भी दिया जिसमें वे पनप सकें। हमारे पास दुनिया की कुल भूमि का केवल 2.4 प्रतिशत हिस्सा है लेकिन वैश्विक जैव विविधता में हमारा हिस्सा 8 प्रतिशत है।

उन्होंने कहा कि दशकों पहले भारत में तेंदुए विलुप्त हो गए थे लेकिन हम दक्षिण अफ्रीका और नामीबिया से तेंदुए लाए और एक देश से दूसरे देश में तेंदुओं को लाने में हम सफल हुए हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारे देश में करीब 30 हजार हाथी हैं और दुनिया में सबसे ज्यादा एशियाई हाथी भारत में हैं।

 

Leave a Comment