आनंदपुर गांव के लोग प्रधानमंत्री को विकास का देवता मानते हैं। इसी से प्रभावित होकर लोगों ने पीएम मोदी के मंदिर की स्थापना की है। यह मंदिर गांव के बजरंबली मंदिर के ठीक बगल में है। मंदिर के निर्माण के लिए पूरे गांव से चंदा एकत्र किया गया था।

प्रधानमंत्री का जन्मदिन यानि 17 सितंबर को आनंदपुर गांव में उत्सव सा माहौल रहता है। मोदी के जन्मदिन को लेकर मंदिर को आकर्षक तरीके से सजाया जाता है। हर घर में विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। साथ ही पूरे गांव की सड़कों आदि की साफ-सफाई की जाती है। यानी गांव में स्वच्छता अभियान भी चलाया जाता है।

मोदी के प्रति इस गांव के लोगों की दीवानगी के पीछे एक दर्दभरी दास्तान भी है। बंगाल से सटे सीमांचल के इस गांव के लोगों को आजादी के सात दशक तक तरह-तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ा। गांव जाने के लिए पक्की सड़क तक नहीं थी। लेकिन, अब यहां पर पक्की सड़क, बिजली, पानी सहित अन्य सुविधाएं हैं। लोगों का मानना है कि यह सब मोदी के सत्ता में आने के बाद भी संभव हो पाया है।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें

अजब गजब की अन्य खबरें

लिंक कॉपी हो गया