क्या आपकी चली गई है नौकरी? तो पैसे की न लें टेंशन, इन टिप्स को करें फॉलो

Savings

साल 2023 के पहले डेढ़ महीनों में हजारों लोग अपनी नौकरियों को गंवा चुके हैं. छंटनी के इस दौर से न सिर्फ स्टार्टअप्स पर असर पड़ा है. बल्कि, दिग्गज टेक कंपनियों जैसे अमेजन, माइक्रोसॉफ्ट, गूगल और ट्विटर पर भी असर पड़ा है. कम से कम 380 टेक कंपनियों ने इस साल दुनिया भर में 1,08,246 कर्मचारियों की छंटनी की है. यह जानकारी ट्रैकिंग वेबसाइट Layoffs.fyi से मिली है.

नौकरी से निकाला जाना बहुत दुख देना वाला हो सकता है. लेकिन आप चिंता न करें. आपको नई नौकरी के मिल जाने तक अपने बिल और ईएमआई का भुगतान कैसे करना है और अपने फाइनेंस को कैसे मैनेज करना है, उसके लिए प्लान बनाने की जरूरत है. आइए जान लेते हैं कि नौकरी चले जाने के बाद अपने पैसे को कैसे मैनेज करें.

अपने खर्च में कटौती करें

अगर आपको अभी पिंक स्लिप मिली है, तो आपके मंथली कैश फ्लो में बड़ी कटौकी होगी. तो, जो चीज आपको सबसे पहले करनी है, वह है अपने फालतू खर्चों को खत्म करना. बार-बार खाना बाहर से ऑर्डन न करें. हर वीकेंड पर बाहर घूमने जाने से बचें. जिम मेंबरशिप या ओटीटी सब्सक्रिप्शन को रद्द कर दें. सभी खर्चों को एक बार में खत्म कर देना, मुश्किल हो सकता है. इसलिए उन्हें कम से कम लेवल पर लाने की कोशिश करें.

एक मंथली बैलेंस शीट बना लें

इस बात का ध्यान रखें कि आप अपने तय खर्चें को प्राथमिकता देते हैं. जैसे इंश्योरेंस का प्रीमियम, लोन की ईएमआई, क्रेडिट कार्ड रिपेमेंट और म्यूचुअल फंड की एसआईपी. सबसे पहले, अपनी सेविंग्स पर नजर डाल लें. फिर, आपको अपनी मंथली फाइनेंशियल कमिटमेंट और लायबिलिटी को कैलकुलेट करना होगा. इस तरीके सेविंग्स करें कि आपके पास कम से कम छह महीने के लिए पैसा बचें. नौकरी से निकाले जाने के बाद दोबारा नई नौकरी मिलने में इतना समय लग सकता है.

अपने इन्वेस्टमेंट पोर्टफोलियो की समीक्षा करें

आपको अपने खर्च में कटौती करने की जरूरत है. हालांकि, अपने रिटायरमेंट कॉर्पस या लंबी अवधि के निवेश लक्ष्यों के साथ छेड़छाड़ न करें. यह देखें कि आप हर महीने कितना खर्च करते हैं और आप कहां पैसा बचा सकते हैं. अपने इन्वेस्टमेंट पोर्टफोलियो को रिव्यू करके इस बात को सुनिश्चित करें कि यह आपके मौजूदा वित्तीय लक्ष्यों और जोखिम की क्षमता के मुताबिक ठीक रहे. अपने इन्वस्टमेंट पोर्टफोलियो में बदलाव धीरे-धीरे ही करें और दिमाग में लंबी अवधि की योजना रखें और छोटी अवधि के बाजार की घटनाओं के आधार पर कोई बड़ा बदलाव करना सही नहीं है.

Leave a Comment