Ankita Murder: अंकिता के कातिल और कत्ल की वजह मिल गई! अब रिजॉर्ट पर हमला

आरोपी पुलकित ने पुलिस को बताया है कि, अंकिता उसके रिजॉर्ट में होने वाली संदिग्ध गतिविधियों को भंडाफोड़ करने की धमकी अक्सर दिया करती थी.

अंकिता भंडारी हत्याकांड

Image Credit source: (फाइल)

उत्तराखंड के पौढ़ी गढ़वाल जिले में हुए अंकिता भंडारी हत्याकांड में एक के बाद एक सनसनीखेज खुलासे होते जा रहे हैं. कहने को कातिल और कत्ल की वजह पुलिस ने तलाश ली है, अंकिता की लाश भी मिल गई है. अब पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने कबूला है कि, अंकिता रिजॉर्ट में होने वाले गलत धंधे की बातें खोल देने की अक्सर धमकियां देती थी. इसी के चलते उसे हमेशा के लिए खामोश करने के वास्ते कत्ल कर डाला गया.

दिन में कोर्ट में पेशी के लिए ले जाने के वक्त, सरेराह पुलिस वाहन से उतारकर महिलाओं ने आरोपियों के कपड़े फाड़ डाले थे और उन्हें बुरी तरह पीटा था. अब शुक्रवार देर रात खबर लिखे जाने के वक्त पता चला है कि मुख्य आरोपी और बीजेपी नेता के बेटे के रिजॉर्ट पर भीड़ ने हमला बोल दिया है. इन तमाम तथ्यों की पुष्टि जांच में जुटी स्थानीय पुलिस भी गुपचुप कर रही है.

ये है अंकिता की हत्या की वजह

गुपचुप इसलिए क्योंकि अभी तक अंकिता की लाश नहीं मिली है. लिहाजा लाश मिलने से पहले पुलिस कुछ खोलकर बोलने को राजी नहीं है. क्योंकि मामला उत्तराखंड राज्य सरकार में राज्य मंत्री का दर्जा प्राप्त किसी पूर्व मंत्री स्तर के, दबंग नेता के बेटे के फंसने की बात जो है. पुलिस द्वारा आरोपियों से की गई अब तक की पूछताछ में यह साफ हो चुका है कि अंकिता का कत्ल ही किया गया. वो भी उसे नहर में धक्का देकर. पुलिस को आरोपियों ने जो बताया है उसके मुताबिक, 18 सिंतबर को रिजॉर्ट मालिक पुलकित आर्य अपने मैनेजर सौरभ भास्कर और अंकित उर्फ पुलकित गुप्ता के साथ रात आठे बजे के आसपास ऋषिकेश गया था. उनके साथ अंकिता भंडारी भी गई थी.

अंकिता की रिजॉर्ट में हुई तू-तू मैं-मैं

रात करीब दस से ग्याहर बजे के बीच वे तीनों वापिस लौट आए थे. रिजॉर्ट लौटने पर मगर उनके साथ अंकिता नहीं थी. इसकी पुष्टि पुलिस ने रिजॉर्ट के स्टाफ से पूछताछ और वहां लगे सीसीटीवी फुटेज को देखकर भी कर ली है. आरोपियों से पूछताछ में जुटी पुलिस के मुताबिक 18 सितंबर की शाम पुलकित आर्य और अंकिता के बीच रिजॉर्ट में ही तू-तू मैं-मैं हुई थी. जिसे रिजॉर्ट में मौजूद अन्य कर्मचारियों ने भी सुना था. उसके बाद पुलकित के कहने पर तीनों दोस्त, अंकिता को लेकर ऋषिकेश चले गए.

स्कूटी से जा रहे थे पुलकित-अंकिता

अंकिता तब रिजॉर्ट मालिक पुलकित आर्य के साथ मोटर साइकिल पर बैठी हुई थी. जबकि बाकी दो लोग पुलकित और अंकित स्कूटी से ऋषिकेश के लिए रवाना हुए थे. पुलिस के मुताबिक, आरोपियों ने कबूला है कि वे सब बैराज के रास्ते से एम्स देहरादून के पास पहुंचे थे. लौटते वक्त अंकिता भंडारी के साथ पुलकित स्कूटी से आ रहा था. पुलकित अंकिता को लेकर आगे निकल चुका था. जबकि उसके दोनों बाकी दोस्त बैराज चौकी से कुछ दूरी पर थे. आगे पहुंचकर पुलकित अंधेरे में एक जगह रुक गया. वहां उसके दोनो दोस्त भी जाकर रुक गए. उसी स्थान पर अंकिता की मौजूदगी में तीनों आरोपियों ने पहले शराब पी और मोमोज खाए.

रिजॉर्ट की गतिविधियों के भंडाफोड़ की धमकी

जब वे लोग चीला रोड पर नहर किनारे बैठकर खा-पी रहे थे. उसी वक्त अंकिता और पुलकित आर्य के बीच झगड़ा होने लगा. वे एक दूसरे के ऊपर जोर जोर से चीखने चिल्लाने लगे. आरोपी पुलकित ने पुलिस को बताया है कि, अंकिता उसके रिजॉर्ट में होने वाली संदिग्ध गतिविधियों को भंडाफोड़ करने की धमकी अक्सर दिया करती थी. उस रात भी उसने कहा कि वो रिजॉर्ट में होने वाली गतिविधियों का भंडाफोड़ करके ही दम लेगी. इसी बीच गुस्से में बिफरी अंकिता भंडारी ने पुलकित आर्य का मोबाइल फोन उसके हाथ से छीनकर नहर में फेंक दिया.

ये भी पढ़ें



आरोपियों के ऊपर भीड़ ने हमला बोला

इससे बौखलाए और पहले ही शराब के नशे में धुत्त पुलकित आर्य आपा खो बैठा. उसने गुस्से में अंकिता को गंगनहर में धक्का दे दिया. नहर के डूबते पानी में जान बचाने के लिए एक दो बार अंकिता ने बाहर आने की नाकाम कोशिश की. मगर वो उसमें सफल नहीं हो सकी. और तीनों आरोपियों के सामने देखते देखते वो पानी के अंदर जा समाई. उसके बाद वे तीनों वहां से भाग कर अपने रिजॉर्ट जा पहुंचे. दिन में इन आरोपियों के ऊपर भीड़ ने हमला बोल दिया था. उसके बाद शुक्रवार देर रात गुस्साई भीड़ ने मुख्य आरोपी पुलकित आर्य (बीजेपी नेता का पुत्र) के रिजॉर्ट पर हमला बोल दिया है. भीड़ ने पथराव करके रिजॉर्ट को काफी नुकसान पहुंचाया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.