मुंबई: शिवाजी पार्क नहीं मिला तो कहां होगी दशहरा रैली? शिवसेना का प्लान B है रेडी

Cm Uddhav Thackeray (2)

मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने मुंबई के शिवाजी पार्क में शिवसेना की दशहरा रैली करने के लिए उद्धव ठाकरे और सीएम एकनाथ शिंदे गुट, इन दोनों को ही इजाजत नहीं दी है. अब यह विवाद बॉम्बे हाईकोर्ट में शुरू है. आज (शुक्रवार, 23 सितंबर) बॉम्बे हाईकोर्ट में इसकी सुनवाई हो रही है. अब सवाल उठता है कि उद्धव ठाकरे गुट को अगर शिवाजी पार्क नहीं मिलता है तो 41 सालों से शिवसेना की दशहरा रैली की जो परंपरा है, वो कैसे जारी रहेगी. यानी ठाकरे गुट ऐसे में दशहरा रैली करने के लिए क्या करेगा?

रही बात सीएम एकनाथ शिंदे गुट की तो उनका विकल्प तैयार है. बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स (बीकेसी) ग्राउंड में उन्हें रैली की इजाजत मिल चुकी है. यहां भी वैकल्पिक व्यवस्था के लिए ठाकरे गुट ने इजाजत मांगी थी. ठाकरे गुट की बजाए एकनाथ शिंदे गुट को यहां रैली की इजाजत मिल चुकी है. लेकिन शिवाजी पार्क में रैली की बात ही अलग है, इसीलिए दोनों ही गुटों में बीएमसी के बाद अब हाईकोर्ट में भिड़ंत हुई है.

यह होगा ठाकरे गुट का प्लान बी, फिलहाल कोर्ट के फैसले का इंतजार

अगर हाईकोर्ट ठाकरे गुट की मुंबई शिवाजी पार्क में रैली करने की परमिशन देने के आग्रह को ठुकरा देता है तो ऐसी हालत में उद्धव ठाकरे गुट के पास प्लान बी तैयार है. सूत्रों के मुताबिक फिर ठाकरे गुट महालक्ष्मी रेसकोर्स, गिरगांव चौपाटी, शिवसेना भवन समेत कुछ और भी विकल्पों पर विचार कर रहा है. बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले के बाद इसकी पिक्चर साफ हो सकेगी.

दोनों गुटों की दशहरा रैली होकर रहेगी, दोनों ओर से ताकत जोर की दिखेगी

दोनों ही गुटों की ओर से कहा जा रहा है कि उनकी दशहरा रैली में यह साफ हो जाएगा कि असली शिवसेना किसकी है, असल में शिवसैनिक किनकी तरफ ज्यादा हैं. ठाकरे और शिंदे गुट इस ऱैली को सफल बनाने के लिए पूरी जोर आजमाइश कर रहा है. दो दिनों पहले शिवसेना की एक सभा में और अपने गुट के पदाधिकारियों के साथ अहम बैठक में उद्धव ठाकरे ने अपने नेताओं और कार्यकर्ताओं से पूरी ताकत लगाकर भीड़ जुटाने को कहा है.

शिंदे गुट भी जोर लगा रहा, पीएम मोदी-शाह को बुलाने की तैयारी में जुटा

शिंदे गुट भी कह रहा है कि ऐसी भीड़ दिखेगी कि पूरा महाराष्ट्र देखेगा. शिंदे गुट इस रैली में सीधे पीएम मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को निमंत्रित करने की प्लानिंग कर रहा है. सूत्रों के मुताबिक अब तक सीएम शिंदे अपने दिल्ली दौरे में पीएम और एचएम से इस बारे में आग्रह कर चुके होंगे.