छेड़छाड़ करने वालों की अब खैर नहीं, सबक सिखाने के लिए इंदौर में तैयार 1300 मर्दानी

News

मध्य प्रदेश में महिला अपराध लगातार बढ़ता जा रहा है. ऐसे में छात्राओं और महिलाओं को आत्मरक्षा के गुण सिखाए जा रहे हैं. आत्मरक्षा अभ्यास शिविर लगाकर जागरूक किया जा रहा है. इसी कड़ी में इंदौर में भी सामाजिक कार्यकर्ता माला सिंह ठाकुर ने मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग का 15 दिन का शिविर एक होलकर साइंस कॉलेज में लगाया गया. शिविर में तकरीबन 13 सौ से ज्यादा छात्राओं को ट्रेनिंग दी गई.

खास बात यह है कि देवी आराधना के नौ दिन नवरात्रि पर्व से पहले ही पुण्याति द्वारा आत्मरक्षा शिविर का आयोजन किया गया. जिसमें छात्राओं को मनचलों को सबक सिखाने की ट्रेनिंग दी गई. छात्राओं ने आत्मरक्षा के गुण सीखे. इस दौरान संस्था ने छात्राओं को संकल्प दिलाया कि शिविर में सीखे गए गुणों को आत्मरक्षा के लिए प्रयोग में लाएंगी.

महिला सुरक्षा मर्दानियों के हाथ

आपको बता दें कि नवरात्रि के दौरान जगह-जगह गरबा पंडाल लगाए जाते हैं. आमतौर पर गरबा पंडालों में कई बार युवतियों की सुरक्षा एक बड़ा सवाल रहती है. कई बार जिन पुरुषों के हवाले महिला और युवतियों की सुरक्षा रहती है, वह उनके साथ गलत हरकत को अंजाम देते हैं. इसी को देखते हुए संस्था के द्वारा महिला और युवतियों को मार्शल आर्ट की ट्रेनिंग दी जा रही है. फिर इन्हीं महिलाओं और युवतियों को विभिन्न गरबा पंडालों में बतौर सुरक्षा लगाया भी की जाएगा.

एक साल में 42 हजार ज्यादा मामले दर्ज

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) 2021 की रिपोर्ट के अनुसार, प्रदेश में कुल चार लाख 75 हजार 918 मामले दर्ज हुए हैं, जो पिछले साल की तुलना में 42 हजार ज्यादा हैं. इसमें नाबालिग से दुष्कर्म के मामले मध्य प्रदेश में सामने आए हैं. वहीं, आंकड़ों के मुताबिक, मध्य प्रदेश इस साल 30 हजार 673 मामलों के साथ छठवें पायदान पर है. हालांकि, अगर साल 2020 की बात करें तो यह पांचवें स्थान पर था.