अगले महीने ब्रिटेन दौरे पर जा सकते हैं पीएम मोदी, दोनों देशों के बीच कई करार संभव

अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार पीएम मोदी अक्टूबर में यूके यात्रा पर जाएंगे और इस दौरान दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय फ्री ट्रेड एग्रीमेंट साइन किया जा सकता है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल)

Image Credit source: PTI

भारत और ब्रिटेन के बीच व्यापार संधि को और भी मजबूत करने के लिए अगले महीने पीएम नरेंद्र मोदी यूके की यात्रा पर जाएंगे. अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार पीएम मोदी अक्टूबर में ब्रिटेन यात्रा पर जाएंगे और इस दौरान दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय फ्री ट्रेड एग्रीमेंट साइन किया जा सकता है. दोनों ही देश इस एग्रीमेंट को दिवाली से पहले करने का मन बना रहे हैं.

मामले से जुड़े एक अधिकारी ने बताया है कि भारत और ब्रिटेन दोनों देशों को विश्वास है कि वह दिवाली के पहले यह एग्रीमेंट साइन कर लेंगे. यह अनुमान है कि यह एग्रीमेंट दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के मौजूदगी में दोनों देशों के व्यापार मंत्री इस पर हस्ताक्षर करेंगे. मामले से संबंधित अधिकारी ने बताया कि पीएम मोदी की यह यात्रा अगर फाइनल होगी तो यह दिवाली के आस-पास हो सकती है. इसी यात्रा पर एफटीए पर हस्ताक्षर संभव है.

ब्रिटेन-ऑस्ट्रेलिया के करार भारत को किए ऑफर

हालांकि अभी तक दोनों देशों की तरफ से किसी भी तरह की कोई अधिकारिक सूचना नहीं दी गई है. दोनों देशों के बीच कुछ मामलों में एग्रीमेंट पर कुछ मामलों में ही चर्चा बाकी है. इनमें माइग्रेशन, ऑटोमोबाइल और मोबिलिटी शामिल है. ब्रिटेन की ओर से मोबिलिटी और माइग्रेशन पर जो टर्म्स ऑस्ट्रेलिया के साथ 2021 में साइन किए थे, उन्हें ही भारत को ऑफर किया गया है.

एक-दूसरे को समझते हैं दोनों देश

यूके और ऑस्ट्रेलिया के बीच हुई इस करार के बाद से ब्रिटेन को यह आजादी मिलती है कि वह ऑस्ट्रेलिया के नागरिकों को कई सेक्टर्स में भर्ती कर सकते हैं. इनमें प्रोफेनल्स जैसे इंजीनियर और अर्किटेक्चर आदि शामिल हैं. हालांकि भारत की ओर से इस पर अभी तक कोई जवाब नहीं दिया गया है. एक अन्य अधिकारी ने नाम बिना बताए, बताया कि मामले में 26 चैप्टर का एग्रीमेंट बनाया गया है. ‘दोनों देश एक-दूसरे की संवेदनशीलता को समझते हैं और उसके हिसाब से एडजस्ट करते हैं.’

ये भी पढ़ें



दोनों ही देशों की ओर से कंसल्टेशन को फास्ट ट्रैक पर लाया गया है ताकि अक्टूबर के शुरुआत में इसे पूरा किया जा सके. भारत सरकार की ओर से इस डील में प्रोफेशनल और स्टूडेंट्स के मोबिलिटी पर फोकस किया जा रहा है. इनमें से लेदर, टेक्सटाइल, ज्वैलरी, एग्रीकल्चर प्रोडक्ट्स, मरीन प्रोडक्ट्स, हेल्थ केयर आदि शामिल हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.