World Earth Day 2022: जलवायु परिवर्तन कैसे हमारे जीवन को कर रहा प्रभावित, गूगल ने डूडल के जरिए बताया

Google Doodle On World Earth Day

वर्ल्ड अर्थ डे (World Earth Day 2022) यानी पृथ्वी दिवस हर साल 22 अप्रैल को मनाया जाता है. इसका मकसद लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करना और हमारी पृथ्वी पर मौजूद जीव-जंतुओं, पेड़-पौधों को बचाना है. आज के दिन लोग पर्यावरण को और कैसे बेहतर बना सकते हैं, इसका संकल्प लेते हैं. इस मौके पर गूगल ने एक खास डूडल (Google Doodle) बनाया है, जिसमें यह बताने की कोशिश की गई है कि जलवायु परिवर्तन (Climate Change) कैसे हमारे जीवन को प्रभावित कर रहा है. बता दें कि पिछले कुछ सालों से धरती के तापमान में बेतहाशा उछाल देखने को मिल रहा है. ग्लेशियर पिघल रहे हैं. वहीं, दुनिया के कई बड़े शहरों की आवोहवा खराब हो गई है. वायु प्रदूषण भी बढ़ता जा रहा है. गूगल ने अपने डूडल के जरिए पृथ्वी के चार अलग-अलग जगहों पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को दिखाया है.

गूगल ने अपने डूडल को टाइमलैप्स इमेजरी के माध्यम से बनाया है. यह इमेजरी हमारी पृथ्वी के कई हिस्सों को दर्शाती है. जिसमें कोरल रीफ्स, ग्लेशियर और हरियाली शामिल है. डूडल के जरिए यह बताने की कोशिश की गई है कि कुछ दशकों से ये बहुत कम हो गए हैं. जब आप गूगल के डूडल को क्लिक करेंगे, तो आपका ध्यान क्लाइमेट चेंज पर फोकस करते हुए इस मुद्दे से जुड़े कई पहलुओं से अवगत कराया जाएगा. जैसे, क्लाइमेट चेंज की वजह क्या है. आम आबादी पर इसका क्या असर पड़ रहा है. गूगल ने बताया है कि समय के साथ बदलता तापमान मौसम के पैटर्न को भी बदल रहा है. जिससे प्रकृति का बैलेंस गड़बड़ा रहा है. इसके साथ ही बताया है कि क्लाइमेट चेंज के पीछे की असल वजह ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन है. इसकी वजह से ओजोन परत को नुकसान पहुंच रहा है, जिससे हमें जल्द से जल्द निपटना है. क्योंकि यही वह कवच है, जो हमें सूर्य की तेज गर्मी और हानिकारक तत्वों से बचाता है.

यहां देखिए गूगल का डूडल

डूडल में चार जगहों की तस्वीरें

डूडल में आप तंजानिया में माउंट किलिमंजारो पर्वत पर ग्लेशियर के लगातार पिघलने की तस्वीरें देख सकते हैं. ये तस्वीरें 1986 से 2020 तक हर दिसंबर को ली गई हैं, जिसे टाइमलैप्स के जरिए दिखाया गया है. दूसरी इमेजरी ग्रीनलैंड के सेर्मर्सूक की है. वहीं, तीसरी ऑस्ट्रेलिया में ग्रेट बैरियर रीफ की है.चौथी तस्वीर में जर्मनी के एलेंड स्थित हार्ज जंगलों को दिखाया गया है, जो बढ़ते तापमान की वजह से नष्ट हो गए हैं.

कैसे हुई अर्थ डे की शुरुआत?

1969 में जुलियन कोनिग ने सबसे पहले Earth Day शब्द से लोगों को रूबरू करवाया. अमेरिकी सीनेटर जेराल्ड नेल्सन ने 1970 में 22 अप्रैल को इसकी स्थापना की थी. तब से इसे हर साल पूरी दुनिया में मनाया जा रहा है. इस साल की थीम Invest in our planet यानी हमारे ग्रह में निवेश करें है. यह थीम परिवार, स्वास्थ्य, आजीविका की रक्षा करने के लिए एकजुट होकर इस ग्रह में निवेश करने के लिए प्रोत्साहित करती है.

Similar Posts