WHO प्रमुख को पीएम मोदी ने दिया ‘तुलसी भाई’ नाम, प्रधानमंत्री से गुजराती में पूछा था ‘केम छो’

Pm Narendra Modi 1

गुजरात में वैश्विक आयुष निवेश एवं नवाचार शिखर सम्मेलन के उद्घाटन समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के डायरेक्टर जनरल डॉ टेड्रोस गेब्रेयसस को गुजराती नाम दिया है. समारोह के दौरान पीएम मोदी ने उन्हें ‘तुलसी भाई’ नाम दिया. बता दें कि गुजरात के जामनगर में एक कार्यक्रम को दौरान WHO प्रमुख ने गुजराती भाषा में लोगों का अभिवादन किया था. इस दौरान उन्होंने लोगों से पूछा था कि ‘केम छो’, जिसके जवाब में लोगों ने जवाब दिया था ‘मजा मा’. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक डॉ टेड्रोस गेब्रेयसस ने वैश्विक आयुष निवेश एवं नवाचार शिखर सम्मेलन के उद्घाटन समारोह में कहा कि पारंपरिक चिकित्सा के क्षेत्र में नवाचार को बढ़ावा देने के लिए सरकारी समर्थन के साथ दीर्घकालिक रणनीतिक निवेश भी काफी महत्वपूर्ण है.

उन्होंने कहा, सामान्य और विशेष रूप से पारंपरिक चिकित्सा में दवा के लिए नवाचार पारिस्थितिकी तंत्र का समर्थन करने के लिए आवश्यक सरकारी प्रतिबद्धता के साथ दीर्घकालिक रणनीतिक निवेश भी जरूरी है. डॉ टेड्रोस गेब्रेयसस ने नवोन्मेषकों, उद्योग जगत और सरकार से पारंपरिक चिकित्सा को एक स्थायी, पर्यावरण के प्रति संवेदनशील और न्यायसंगत तरीके से विकसित करने का भी आह्वान किया.

उन्होंने कहा कि पारंपरिक दवाओं को बाजारों में लाते समय हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि जिन समुदायों ने इसका पोषण किया है और इस ज्ञान को आगे बढ़ाया है, वे भी इसके विकास से लाभान्वित हों. इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद रहे.

औषधि उत्पादों की मान्यता के लिए जारी होगा आयुष चिह्न

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत जल्द ही पारंपरिक औषधि उत्पादों को मान्यता देने के लिए आयुष चिह्न जारी करेगा जो देश के आयुष उत्पादों की गुणवत्ता को प्रामाणिकता प्रदान करेगा. प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि भारत जल्द ही उन लोगों के लिए आयुष वीजा श्रेणी शुरू करेगा जो इलाज के पारंपरिक तरीकों के लिए देश आते हैं.

वह गुजरात के महात्मा मंदिर में तीन दिवसीय वैश्विक आयुष निवेश और नवाचार सम्मेलन के उद्घाटन के बाद मॉरिशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जगन्ननाथ और विश्व स्वास्थ्य संगठन के महासचिव डॉ टेड्रोस अधनोम घेब्रेसियस की मौजूदगी में बोल रहे थे.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, भारत जल्द ही आयुष चिह्न जारी करेगा, जो देश के आयुष उत्पादों की गुणवत्ता को प्रमाणिकता प्रदान करेगा. नवीनतम तकनीक का उपयोग करके पुनरीक्षित उत्पादों को चिह्न दिया जाएगा. इससे विश्व के लोगों को विश्वास होगा कि वे गुणवत्तापूर्ण आयुष उत्पाद खरीद रहे हैं.

Similar Posts