Video: महिला फुटबॉलरों के कपड़ों पर पाक पत्रकार ने पूछा घटिया सवाल, लग गई ‘क्लास’

पाकिस्तानी महिला फुटबॉल टीम ने 8 साल में पहली बार SAFF चैंपियनशिप में हिस्सा ले रही थीं और उन्होंने पहली बार एक मैच भी जीता, लेकिन पत्रकार को टेंशन उनके कपड़ों की थी.

पाकिस्तानी महिला फुटबॉलरों के शॉर्ट्स पहनने पर पत्रकार ने आपत्ति जताई.

Image Credit source: Twitter

दुनियाभर में अलग-अलग खेलों में महिला का योगदान और उनकी हिस्सेदारी लगातार बढ़ रही है. ज्यादातर खेलों में महिलाओं को वहीं रुतबा मिल चुका है, जो पुरुषों को हासिल है. फुटबॉल में भी यही स्थिति धीरे-धीरे बन रही है और महिला फुटबॉल रोमांच और खेल प्रेमियों के आकर्षण का केंद्र बन रहा है. पाकिस्तानी महिला फुटबॉल टीम भी कुछ सालों के बाद पहली बार फुटबॉल मैदान में उतरकर अपनी काबिलियत दिखा रही हैं लेकिन पाकिस्तान के एक पत्रकार को उनके प्रदर्शन के बजाए, उनके कपड़ों को लेकर परेशानी हो रही है.

8 साल में पहली जीत…

नेपाल की राजधानी काठमांडू में इन दिनों सैफ (SAFF) महिला चैंपियनशिप चल रही है, जिसमें पाकिस्तानी महिला फुटबॉल टीम भी हिस्सा ले रही है. इस टूर्नांमेंट में पाकिस्तानी टीम ने हाल ही में मालदीव पर7-0 से शानदार जीत दर्ज की. वहीं उससे पहले उसे भारत और बांग्लादेश से हार मिली थी. टीम के इस प्रदर्शन पर चर्चा करने के बजाए एक पाकिस्तानी पत्रकार ने टूर्नामेंट के दौरान पाकिस्तानी खिलाड़ियों के शॉर्ट्स पहनने पर आपत्ति जताई.

…लेकिन टेंशन कपड़ों की

करीब आठ साल में पहली बार पाकिस्तानी टीम को इस चैंपियनशिप में पहली बार किसी मुकाबले में जीत मिली. इसके बावजूद टूर्नामेंट कवर कर रहे इस पत्रकार ने खिलाड़ियों की कपड़ों पर सवाल करना बेहतर समझा. मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में पत्रकार ने टीम के मैनेजर और अन्य अधिकारियों से पूछा, जैसा कि आप जानते हैं कि हम इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ पाकिस्तान से ताल्लुक रखते हैं जो एक इस्लामिक देश है, मैं पूछना चाहता हूं कि इन लड़कियों ने निकर क्यों पहन रखी हैं, लेगिंग क्यों नहीं?

कोच ने दिया जवाब

जाहिर तौर पर इस संकीर्ण सोच वाले सवाल ने टीम के मैनेजर को भी हैरानी में डाल दिया, लेकिन उन्होंने किसी भी तरह से आक्रामक लहजा अपनाने के बजाए शांति से जवाब देना बेहतर समझा और प्रगतिशील होने की नसीहत दे दी. टीम के मैनेजर आदिल रिजकी ने कहा, “खेलों में हर किसी को प्रगतिशील होना चाहिए. जहां तक ड्रेस का सवाल है तो हमने कभी किसी को रोकने की कोशिश नहीं की, यह कुछ ऐसा है जिसे हम नियंत्रित नहीं करते.

ट्विटर पर लग गई क्लास

इसका वीडियो ट्विटर पर आने के बाद पाकिस्तानी यूजर्स के बीच जोरदार बहस शुरू हो गई. इसमें से ज्यादातर यूजर्स ने पत्रकार को जमकर खरी खोटी सुनाई. वहीं कुछ यूजर्स ऐसे भी थे, जिन्होंने इस संकीर्ण सोच का साथ देते हुए इस आपत्ति को सही ठहराया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.