Uttar Pradesh: मुस्लिम धर्म गुरु का हवा में तमंचा लहराते फोटो वायरल, वीडियो जारी कर बोले- 8 साल पुरानी तस्वीर है

Unnao Crime News

पैगंबर मोहम्मद पर आपत्तिजनक टिप्पणी और केंद्र सरकार की लागू सेना भर्ती ‘अग्निपथ योजना’ के विरोध में मचा घमासान अभी पूरी तरह से यूपी में कुछ शांत हुआ ही था. इस बीच उन्नाव (Unnao) जिले में एक मुस्लिम धर्म गुरु की हवा में तमंचा लहराते हुए एक फोटो सामने आई है. मामले के सोशल मीडिया पर तूल पकड़ते ही जिले की पुलिस हरकत में आ गई. पुलिस का कहना है कि फोटो की जांच की जा रही है. जांच के बाद कड़ी कार्रवाई की जाएगी. वहीं, फोटो वायरल होने के बाद मुस्लिम धर्मगुरु ने इसकी सफाई भी पेश की है. सोशल मीडिया में जारी किए गए वीडियो में सफाई देते हुए कहा कि यह नकली पिस्टल थी, फोटो खिंचवाने का शौक था और यह पुराना फोटो है. साजिश के तहत वायरल किया जा रहा हैं.

मामला सफीपुर कोतवाली क्षेत्र के कस्बा पीरजादगान मोहल्ला का है. यहां के रहने वाले मुस्लिम धर्मगुरु हसनैन बकाई का तमंचा लहराते हुए फोटो सोशल मीडिया पर छाया हुआ है. अकील नाम के शख्स ने अपने स्टेटस पर तमंचा लहराते हुए फोटो लगाई थी, जिसके बाद किसी ने यह स्क्रीनशॉट लेकर वायरल कर दिया. हसनैन बकई उन्नाव के सांसद साक्षी महाराज के प्रतिनिधि भी है. इस तरह का फोटो सोशल मीडिया पर आने के बाद पुलिस तफ्तीश में जुट गई है.

मुस्लिम धर्मगुरु ने वीडियो जारी कर पेश की सफाई

वहीं, दूसरी तरफ मुस्लिम धर्मगुरु हसनैन बकाई ने एक वीडियो सोशल मीडिया में सफाई पेश करते हुए कहा कि तमंचे वाली फोटो करीब 8 साल पुरानी है. पहले जब शिक्षा ग्रहण कर रहे थे, तब की है. जिसे पिस्टल बताया जा रहा है, वह चाइनीज लाइटर है. इस फोटो को गलत तरीके से पेश किया जा रहा है. वहीं, क्षेत्राधिकारी सफीपुर अंजनी कुमार राय ने बताया कि फोटो का प्रकरण संज्ञान में आया है. वायरल फोटो की जांच कराई जा रही है, कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

मुस्लिम धर्म गुरु का विवादों से पुराना नाता

बता दें, उन्नाव सांसद साक्षी महाराज के अल्पसंख्यक प्रतिनिधि सफीपुर कस्बा निवासी मुस्लिम धर्म गुरु हसनैन बकाई विवादों से गहरा नाता रहा है. कभी इनको जान से मारने की धमकी मिलती है, तो कभी जानलेवा हमला होता है. हसनैन बकाई पर एक महीने पहले रात के दो बजे जानलेवा हमला हुआ था, जिसमे दो लोगों की फायरिंग करते हुए सीसीटीवी कैमरे में फुटेज कैद हुई थी. हसनैन बकाई की तहरीर पर सफीपुर नगर पंचायत चेयरमैन सहित तीन लोगों पर गंभीर धाराओं में मुकदमा भी दर्ज किया गया था. इसके साथ ही दो आरोपियों को पुलिस ने पकड़ कर जेल भेज दिया था.

Similar Posts