UP विधानसभा सत्र: सपा का पैदल मार्च, BJP बोली- अखिलेश का मुद्दा जनता से जुड़ा नहीं

Sp March Up

उत्तर प्रदेश विधानसभा का मानसून सत्र आज यानी सोमवार 19 सितंबर से शुरू होने वाला है. इसी कड़ी में रोजगारी, महंगाई, महिलाओं के प्रति अपराधों और कानून व्यवस्था की बदहाली समेत विभिन्न मुद्दों को लेकर समाजवादी पार्टी (सपा) के सभी विधायक और विधान परिषद सदस्य पार्टी मुखिया अखिलेश यादव के नेतृत्व में पैदल मार्च कर विधानमंडल सत्र में हिस्सा लेंगे. इसी कड़ी में सपा मुख्यालय के बाहर भारी सुरक्षाबल तैनात किया गया है. वहीं बीजेपी ने कहा कि अखिलेश का मुद्दा जनता से जुड़ा नहीं है.

सपा के राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी ने रविवार को बताया था कि पार्टी के विधानसभा एवं विधानपरिषद सदस्य दल के प्रदेश मुख्यालय से सोमवार को शुरू हो रहे विधानमण्डल के मॉनसून सत्र में शामिल होने के लिए पैदल विधानसभा पहुंचेंगे. इस पदयात्रा का नेतृत्व पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव करेंगे. उन्होंने बताया कि पैदल मार्च में शामिल विधायकों और विधान परिषद सदस्य के हाथों में तख्तियां होंगी जिसमें बेरोजगारी, महंगाई, महिलाओं के शोषण, कानून व्यवस्था की बदहाली, शिक्षा, स्वास्थ्य के क्षेत्र में गड़बड़ी, बिजली संकट, किसानों नौजवानों के साथ हो रहे अन्याय से जुड़े मुद्दों का उल्लेख होगा.

कार्यक्रम निरस्त कर किया था यात्रा निकालने का फैसला

चौधरी ने बताया कि यह पदयात्रा पार्टी कार्यालय से शुरू होकर राजभवन और जीपीओ स्थित गांधी प्रतिमा के सामने से गुजरेगी. गौरतलब है कि सपा विधायकों को पिछली 14 से 18 सितंबर तक विधान भवन स्थित चौधरी चरण सिंह की प्रतिमा के सामने धरना प्रदर्शन करना था लेकिन प्रशासन ने विभिन्न आदेशों का हवाला देते हुए उन्हें ऐसा करने से रोक दिया, जिसके बाद पार्टी ने अपना कार्यक्रम निरस्त करते हुए पर यात्रा निकालने का फैसला किया था. सपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता चौधरी ने बताया कि विधानमण्डल के वर्तमान सत्र में पार्टी जनसमस्याओं को पुरजोर तरीके से उठाएगी. उन्होंने बताया कि प्रदेश में भाजपा सरकार बदले की भावना से काम कर रही है. हत्या, लूट, अपहरण और बलात्कार की घटनाओं से पूरा प्रदेश सिहर उठा है.