‘UP की किसी भी सीट से चुनाव लड़ें नीतीश, जमानत होगी जब्त’, सुशील मोदी का चैलेंज

सुशील मोदी ने कहा कि नीतीश कुमार को बिहार से अब डर लगने लगा है. वह जानते हैं कि 2014 के लोकसभा चुनाव में उनका क्या हाल हुआ था? वहीं हाल 2024 में भी होगा. इसीलिए वह उत्तर प्रदेश भागने की सोच रहे हैं.

पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी (फाइल फोटो).

Image Credit source: File photo

बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री व भाजपा के राज्यसभा सांसद सुशील मोदी ने रविवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर निशाना साधा. सुशील मोदी ने कहा कि सुनने में आ रहा है कि नीतीश कुमार 2024 का लोकसभा चुनाव उत्तर प्रदेश की फूलपुर लोकसभा सीट से लड़ने जा रहे हैं. मैं नीतीश कुमार को चुनौती देता हूं कि वह उत्तर प्रदेश की किसी भी लोकसभा सीट से चुनाव लड़ लें, भाजपा उनकी जमानत जब्त कराएगी. भाजपा का हर एक कार्यकर्ता धोखेबाजों को हराने में पूरी ताकत झोंक देगा.

दरअसल, इस समय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 2024 लोकसभा चुनाव के लिए विपक्षी पार्टियों को एकजुट करने में लगे हुए हैं. अभी कुछ दिन पहले वह दिल्ली के तीन दिवसीय दौरे पर गए थे, जहां उनकी मुलाकात कई विपक्षी नेताओं से हुई थी. उन्होंने सभी नेताओं से 2024 में भाजपा के खिलाफ एक मजबूत विपक्ष बनाने की अपील की. वहीं उनकी खुद की पार्टी जेडीयू नीतीश कुमार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सबसे बड़ा प्रतिद्वंदी बता रही है. जेडीयू का कहना है कि नीतीश कुमार ही नरेंद्र मोदी को 2024 में दिल्ली की सत्ता से बेदखल कर सकते हैं. इसलिए विपक्ष नीतीश के चेहरे पर चुनाव लड़े.

अखिलेश यादव ने नीतीश कुमार को दिया ऑफर

वहीं कुछ दिन पहले समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की ओर से नीतीश कुमार को उत्तर प्रदेश की फूलपुर लोकसभा सीट से आम चुनाव लड़ने की पेशकश की थी. अखिलेश की इसी पेशकश पर सुशील मोदी ने कहा कि अखिलेश यादव चाहते हैं कि नीतीश उत्तर प्रदेश में आएं और चुनाव में अपनी जमानत खो दें. सभी जानते हैं कि अखिलेश यादव का अपने राज्य में कोई उम्मीदवार नहीं है. उनका पिछले लोकसभा चुनाव में बसपा के साथ गठबंधन था और क्या हुआ? बाद में गठबंधन टूट गया और भाजपा 62 सीटों के साथ जीत गई.

यूपी क्यों, बिहार से चुनाव लड़कर दिखाएं नीतीश?

सुशील मोदी ने कहा कि अगर नीतीश कुमार उत्तर प्रदेश से लोकसभा चुनाव लड़ने के बारे में सोच रहे हैं तो यह समझ में आता है कि बिहार में उनकी क्या हालात है? अब वह बिहार से भागने में लगे हैं. उनको डर लग रहा है कि कहीं उनकी पार्टी एक भी सीट न जीत पाई तो क्या होगा? 2014 लोकसभा चुनाव का हाल तो नीतीश कुमार देख लिए हैं. उनकी पार्टी की कितनी बुरी हालत हो गई थी. 2019 में जब हमारे साथ आए तो आधे सांसद उनके लोकसभा पहुंच गए.

महागठबंधन सरकार पर साधा निशाना

वहीं सुशील मोदी ने बिहार में कानून-व्यवस्था को लेकर महागठबंधन सरकार पर जमकर निशाना साधा. सुशील मोदी ने कहा कि छपरा, कटिहार और मुजफ्फरपुर में हालिया घटनाएं बिहार में कानून व्यवस्था की पोल खोलने के लिए काफी हैं. छपरा के मुफस्सिल थाना क्षेत्र में अपराधियों द्वारा हमला किए जाने के बाद दो पुलिसकर्मी घायल हो गए थे, कटिहार में शनिवार को अपराधियों द्वारा प्राणपुर पुलिस स्टेशन पर हमला करने के बाद कई पुलिसकर्मी घायल हो गए थे.

ये भी पढ़ें



राज्य के मामलों में रुचि नहीं ले रहे नीतीश कुमार

सुशील मोदी ने कहा कि लालू राज (राजद के शासनकाल) के दौरान जो हुआ करता था, उससे कहीं अधिक अमानवीय घटनाएं अब हो रही हैं. सुशील मोदी ने कहा कि खराब कानून व्यवस्था के लिए नीतीश कुमार जिम्मेदार हैं अब स्थिति उनके नियंत्रण से बाहर है, क्योंकि वह प्रधानमंत्री बनने की अपनी ‘महत्वाकांक्षा’ के कारण राज्य के मामलों के प्रति ‘अनावश्यक’ हैं. मुख्यमंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान बिहार में विफल कानून व्यवस्था राज्य में लौट आई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.