Russia Ukraine War: रूस की बाल्टिक फ्लीट एक्टिव…पुतिन का प्लान क्लियर; अस्तित्व की बात आई तो होगा सर्वनाश!

President Vladimir Putin...

Russia Ukraine War: इस वक्त पूरी दुनिया थर्ड वर्ल्ड वॉर (Third World War) के मुहाने पर खड़ी है. न्यूक्लियर हमल की बात हो रही है और इसकी सबसे बड़ी वजह है पुतिन (President Vladimir Putin) के खिलाफ यूक्रेन को हथियारों की सप्लाई लाइन. अमेरिका हथियारों की होड़ में सबसे आगे है लेकिन आज पुतिन ने सबको चौंका दिया. अमेरिका से तनाव के बीच पुतिन का बड़ा एक्शन हुआ. पुतिन ने ICBM का लाइव टेस्ट देखा. Intercontinental Ballistic Missile Sarmat-IFX का टेस्ट किया गया. पुतिन ने कह दिया कि इस मिसाइल जैसी ताकत किसी और के पास नहीं. इन बयानों को, इन शब्दों को समझने की जरूरत है. जब पूरी दुनिया जंग खत्म होने का इंतजार कर रही है. तब रूस का अचानक मिसाइल टेस्ट करना बड़ा संकेत है. ऐसा इसलिए भी है क्योंकि अमेरिका की सप्लाई लाइन जारी है. अमेरिका ने कह दिया कि अब यूक्रेन को एयरक्राफ्ट्स भेजे हैं लेकिन ये अमेरिकी जमीन से नहीं भेजे हैं. अब सवाल है कि अगर अमेरिका हवाई जहाज नहीं भेज रहा है तो फिर यूक्रेन को किस देश के हथियार मिल रहे हैं क्योंकि यूक्रेन की एयरफोर्स तो सिर्फ MIG 29 और सुखोई उड़ना जानती है.

आपको याद होगा कुछ दिन पहले अमेरिका और पोलैंड के बीच यूक्रेन की मदद को लेकर बात हुई थी. पोलैंड ने कह दिया था कि वो अपनी मिग 29 की फ्लीट को यूक्रेन ट्रांसफर करने को तैयार है. इसके बाद अमेरिका उसे अपने F-16 से लैस कर देगा. बात ब्लिंकन के लेवल पर फाइनल हुई. अमेरिकी विदेश मंत्री डील डन करके आ गए लेकिन पेंटागन ने इसे रिजेक्ट कर दिया. अब सवाल है कि अगर यूक्रेन को फाइटर जेट्स मिलेंगे तो फिर वो कौन से देश हैं, जो उसे जहाज दे सकते हैं. ऐसे में नाम आता है लिथुआनिया का. लिथुआनिया के पास मिग की फ्लीट है लेकिन लिथुआनिया ने अपने जेट दिए तो फिर इसका मतलब ये होगा कि नाटो की यूक्रेन वॉर में डायरेक्ट एंट्री. शायद ये बात अब रूस भी जानता है. इसलिए रूस की बाल्टिक फ्लीट एक्टिव है. न्यूक्लियर केपेबल मिसाइलों की टीवी पर नुमाइश की जा रही है. पुतिन का प्लान क्लियर है. अगर बात अस्तित्व की आई. नाटो से भिडंत की आई तो फिर सर्वनाश होगा. कुछ नहीं बचेगा.

पूर्वी यूक्रेन में रूसी सेना तीन गुनी ताकत से कर रही है हमला

पूर्वी यूक्रेन में रूस पहले भी कहर बरपा चुका है. खासतौर से डोनबास रीजन में रूस ने मिसाइल और रॉकेट से हमले करके पूरे इलाके को तबाह कर दिया लेकिन एक बार फिर रूसी सेना पूर्वी यूक्रेन और डोनबास पर नए सिरे से विध्वंसक हमले कर रही है…और ये हमला हर दिन तेज होता जा रहा है. यूक्रेन डिफेंस मिनिस्ट्री के मुताबिक रूस पूर्वी यूक्रेन को नए सिरे से दहला रहा है. रूसी सेना तीन गुनी ताकत से हमला कर रही है. यूक्रेन के मारियुपोल में सबसे भीषण हालात है.मारियुपोल के मेयर ने लोगों से अपील की है कि वो तुरंत शहर छोड़ दें. मेयर ने उन दो लाख लोगों से भी अपील की है जो पहले ही मारियुपोल छोड़ चुके हैं. मेयर ने मारियुपोल छोड़ चुके लोगों को शहर से अपने रिश्तेदारों को ले जाने को कहा है. मेयर की अपील से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि मारियुपोल में फिर रूसी हमले की कैसी दहशत है यही हाल पिछले 24 घंटे से पूर्वी यूक्रेन का है.

रूस का पूरा फोकस पूर्वी यूक्रेन पर

रूसी फौजों ने खारकीव और क्रामाटोर्स्क के पूर्वी शहरों पर भारी हमले किए हैं. डोनबास के पश्चिम में जापोरिजिया और निप्रो में भी मिसाइले गिराई हैं . दक्षिणी शहर मायकोलाइव कई मिसाइलों के प्रहार से दहल गया है. इसके पास के शहर बश्तंका में एक अस्पताल में भारी बमबारी से बड़ी तबाही मची है. इस वक्त रूस का पूरा फोकस पूर्वी यूक्रेन खासतौर से डोनबास पर है. यही इलाका यूक्रेन की कमाई का बड़ा स्रोत है. रूस अगर डोनबास पर कब्जा करने में कामयाब हो गया तो राष्ट्रपति पुतिन यूक्रेन के दो टुकड़े करने में कामयाब हो जाएंगे.

Similar Posts