Russia-Ukraine War: रूसी सैनिकों पर आरोप, यूक्रेन के पत्रकार की बेरहमी से की हत्या, यातनाएं देकर मारने के बाद शव को जलाया

Maks Levin

रूसी सैनिकों ने मार्च में यूक्रेन के पत्रकार माक्स लेविन (Ukrainian Photojournalist Maks Levin) को कथित तौर पर यातनाएं देने के बाद उनकी मार्च में हत्या की है. ये जानकारी मीडिया अधिकार समूह रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स (आरएसएफ) ने एक जांच रिपोर्ट में दी है, जिसे बुधवार को प्रकाशित हुई है. इसने लेविन की मौत की जांच के लिए एक टीम को यूक्रेन भेजा था, जिसके यह निष्कर्ष तक पहुंची है. आरएसएफ ने कहा कि वह नीदरलैंड के हेग में अंतरराष्ट्रीय अपराध न्यायालय (International Criminal Court) में शिकायत करेगा, खासतौर पर लेविन की मौत से जुड़े मामले में. यह यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद से छठी ऐसी शिकायत होगी.

लेकिन का शव उनके पुराने दोस्त और सैनिक ओलेक्सी चेरनिशोव के पास 1 अप्रैल को जंगलों में मिला था, जो राजधानी कीव के बाहर करीब 20 किमी दूर मोशचुन गांव में स्थित है. दोनों तभी से गायब थे, जब 13 मार्च को इलाके में भारी लड़ाई के चलते लेनिन यूक्रेनी सैनिकों के साथ चले गए थे. पेरिस स्थित आरएसएफ ने मई के आखिर से जून तक जांचकर्ताओं की एक टीम को भेजा था, जिनमें पत्रकार पैट्रिक चौवेल भी शामिल हैं. जो फरवरी में लेविन के साथ डोनबास क्षेत्र में काम कर चुके हैं.

आरएसएफ को घटनास्थल से सबूत मिले

रिपोर्ट में कहा गया है, ‘आरएसएफ ने जो सबूत एकत्रित किए हैं, उनसे पता चलता है कि यूक्रेन के फोटो पत्रकार माक्स लेविन और उस समय साथ रहने वाले दोस्त की रूसी सैनिकों ने बेहरमी से हत्या की है. संभवत: उन्हें पकड़े जाने के बाद उनसे पूछताछ हुई और यातनाएं दी गईं. बाद में फिर उन्हें मार दिया गया.’ जांचकर्ताओं को घटनास्थल से बुलेट मिले हैं, जिन्हें रूस के सैनिक आमतौर पर इस्तेमाल करते हैं. जो अन्य सामान मिला है, उनमें खाने के पैकेट, चम्मच, सिगरेट के पैकेट और रॉकेट के इस्तेमाल से जुड़े निर्देश शामिल हैं. इससे भी यहां रूसी सैनिकों की मौजूदगी का पता चलता है.

रिपोर्ट में दो संभावित सिनोरियो के बारे में बताया गया है. पहला ये कि लेविन और उनके दोस्त को रूसी सैनिकों ने पकड़ने के बाद गोलियों से मारा और फिर उनके शवों को जला दिया. दूसरा ये कि इन्हें इनकी कार में ही रोक दिया गया, पूछताछ हुई और हो सकता है अलग-अलग करके दोनों को यातनाएं दी गईं. रिपोर्ट में कहा गया है कि चेरनिशोव के मामले में हो सकता है कि उन्हें गोली से मारने के बाद उनके शव को जलाया गया है. अब आरएसएफ ने सबूत के तौर पर घटनास्थल से मिले सामान और तस्वीरों को यूक्रेन अधिकारियों को सौंप दिया है. आरएसएफ के आंकड़ों के मुताबिक, लेविन उन आठ पत्रकारों में शामिल हो गए हैं, जिन्हें यूक्रेन पर रूसी आक्रमण के बाद मारा गया है.

Similar Posts