Russia Ukraine War: मारियुपोल में रूस संग वार्ता को तैयार यूक्रेन, 50 लाख लोग बने शरणार्थी, पढ़ें युद्ध से जुड़ी 10 बड़ी बातें

Russia Ukraine War

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) द्वारा यूक्रेन के खिलाफ युद्ध का ऐलान किए हुए आठ हफ्तों के करीब का वक्त हो चला है. रूस-यूक्रेन युद्ध (Russia Ukraine War) के चलते 50 लाख लोगों ने युद्धग्रस्त देश को छोड़ा है. इन लोगों ने पड़ोसी मुल्कों में जाकर शरण ली है. इसी बीच, रूस लगातार सैनिकों और आधुनिक हथियारों को डोनबास क्षेत्र में तैनात किए जा रहा है. रूस का मकसद इसके ‘स्पेशल मिलिट्री ऑपरेशन’ के दूसरे फेज के तहत डोनबास को पूरी तरह से आजाद करवाना है. वहीं, रूसी सैनिकों से घिरे शहर मारियुपोल में यूक्रेन ने ‘बिना किसी शर्त’ के वार्ता आयोजित करने की पेशकश की है, लेकिन रूस ने अभी तक कोई जवाब नहीं दिया है. पढ़ें युद्ध से जुड़ी 10 बड़ी बातें…

  1. अधिकारियों ने कहा है कि यूक्रेन ने मारियुपोल में रूस के साथ ‘बिना शर्त’ वार्ता आयोजित करने की पेशकश की है. यूक्रेन के वार्ताकार और राष्ट्रपति के सहयोगी मायखाइलो पोडोलीक ने ट्वीट किया, ‘बिना किसी शर्त हम मारियुपोल में ‘वार्ता का विशेष दौर’ आयोजित करने के लिए तैयार हैं.’
  2. यूक्रेन और रूस ने मारियुपोल से महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों को निकालने के लिए एक ह्यूमैनिटेरियन कॉरिडोर तैयार करने के लिए समझौता किया है. यूक्रेन की उप प्रधानमंत्री इरिना वीरेश्चुक ने बुधवार को इसकी जानकारी दी.
  3. संयुक्त राष्ट्र ने बताया है कि 24 फरवरी से युद्ध शुरू होने के बाद से अब तक 50 लाख लोगों ने यूक्रेन छोड़ा है. 30 मार्च को ये संख्या 40 लाख तक पहुंच गई थी. संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि ये एक गंभीर मानवीय संकट पैदा करेगा.
  4. ऑल इंग्लैंड क्लब ने बुधवार को ऐलान किया कि यूक्रेन के खिलाफ युद्ध की वजह से रूस और बेलारूस के टेनिस खिलाड़ियों को इस साल विंबलडन में खेलने की इजाजत नहीं दी जाएगी. विंबलडन की शुरुआत 27 जून को हुई थी.
  5. अमेरिका की कोषागार मंत्री जेनेट येलेन और यूक्रेन के वित्त मंत्री सेरही मार्चेंको बुधवार को जी20 की एक बैठक को उस वक्त छोड़ दियाजब रूस के प्रतिनिधि ने बैठक को संबोधित करना शुरू किया. इस दौरान कई देशों के वित्त मंत्री और सेंट्रल बैंक के गवर्नर भी कमरे से बाहर चले गए.
  6. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और यूक्रेन के राष्ट्रपति व्लोदीमीर जेलेंस्की को पत्र लिखकर यूक्रेन में शांति बहाली के वास्ते तत्काल कदमों पर चर्चा करने के लिए मॉस्को और कीव में उनकी अगवानी करने को कहा है. महासचिव के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने कहा कि मंगलवार दोपहर दो अलग-अलग पत्र रूस और यूक्रेन के स्थायी मिशनों को सौंपे गए.
  7. यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की ने रूस की सेना को दुनिया की सबसे बर्बर सेना करार दिया. उन्होंने कहा कि रूसी सैनिकों के पास जो भी हथियार उपलब्ध हैं, वे यूक्रेन के खिलाफ उन सभी का इस्तेमाल कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि रूसी सैनिकों ने बर्बरता की सारी हदें पार कर दी हैं. उन्होंने हर उस व्यक्ति और वस्तु को निशाना बनाया है, जो यूक्रेन के खिलाफ उनके संघर्ष का सामना करने में मददगार हैं.
  8. जी-7 देशों के वित्त मंत्रियों ने कहा है कि उन्होंने यूक्रेन को 2022 और उससे आगे के लिए 24 बिलियन डॉलर से अधिक की अतिरिक्त सहायता देने का वादा किया है. उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ने पर इसे और अधिक किया जाएगा.
  9. रूस के वरिष्ठ राजनयिक और रूसी विदेश मंत्रालय के CIS (स्वतंत्र राज्यों के राष्ट्रमंडल) मामलों के विभाग के डायरेक्टर एलेक्सी पोलिशचुक ने कहा कि अगर नाटो देश यूक्रेन का इस्तेमाल अपने फायदे के लिए करना बंद कर देंगे तो रूस युद्ध को रोक देगा.
  10. लुहांस्क के गवर्नर ने कहा है कि रूसी सेना के पास अब 80 फीसदी क्षेत्र का कंट्रोल है. ये पूर्वी यूक्रेन में डोनबास क्षेत्र के दो हिस्सों में से एक है. रूस का इरादा डोनबास के इन क्षेत्रों को कब्जाना है. रूस के हमले से पहले यूक्रेन लुहांस्क के 60 फीसदी हिस्से को कंट्रोल करता था.

Similar Posts