Russia Ukraine War: किस्मत हो तो ऐसी! फोन बना ‘बुलेटप्रुफ’, दुश्मन की गोली से बचाई यूक्रेनी सैनिक की जान, देखें वीडियो

Ukraine Soldier Phone

एक कहावत है ‘जाको राखे सईंया मार सके ना कोय’. ये कहावत यूक्रेन (Ukraine) में सामने आई एक घटना पर बिल्कुल सटीक बैठती है. इन दिनों यूक्रेन और रूस के बीच जंग (Russia-Ukraine War) छिड़ी हुई है और दोनों ही पक्षों के अभी तक बड़ी संख्या में सैनिक मारे गए हैं. अभी तक इस युद्ध का कोई नतीजा सामने नहीं आया है. इसी बीच इंटरनेट पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें कहा गया है कि यूक्रेन एक सैनिक की जान मोबाइल फोन की वजह से बच गई. इस वीडियो के सामने आने के बाद लोग हैरान रह गए हैं. कहा गया है कि दुश्मन की तरफ से दागी गई गोली सैनिक को आकर लगने के बजाय उसके फोन को लगी और इस तरह उसकी जान बच गई.

जंग के बीच इस तरह के कई वीडियो सामने आए हैं, जिसमें यूक्रेन और रूस के सैनिकों को वीरता और साहस दिखाते हुए देखा गया है. समाचार एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक, यूक्रेन के सैनिक को एक रूसी जवान ने गोली मारी थी, लेकिन वह जिंदा बच निकला. यूक्रेनी सैनिक की जिंदगी उसके फोन ने बचा ली, क्योंकि 7.62 एमएम की गोली उसे आकर लगने के बजाय फोन से टकरा गई. गोली को फोन के भीतर अटके हुए भी देखा गया. यूक्रेनी सैनिक ने वायरल वीडियो में अपने क्षतिग्रस्त हुए फोन को एक अटकी हुई गोली के साथ दिखाया है. इसमें वह कहता है, ‘स्मार्टफोन ने मेरी जान बचाई है.’

यूक्रेनी सैनिक का वीडियो देखें…

वीडियो में सुनी जा सकती है गोलियों की आवाज

ये वीडियो ऐसे समय पर सामने आया है, जब यूक्रेन और रूस के बीच युद्ध दूसरे महीने में प्रवेश करने जा रहा है. अभी तक इस युद्ध के रुकने की कोई गुंजाइश नजर नहीं आ रही है. वायरल वीडियो में सैनिक को अपने साथी सैनिक के साथ बात करते हुए देखा जा सकता है. वह अपने फोन को उसे दिखा रहा है. इस वीडियो को जिस समय बनाया जा रहा है, उस वक्त गोलियों और धमाकों की आवाज को भी सुना जा सकता है. रूस ने यूक्रेन के खिलाफ 24 फरवरी को युद्ध की शुरुआत की थी. रूस ने लगातार ये कहा है कि वह यूक्रेन के सैन्य ठिकानों को निशाना बना रहा है और नागरिकों को निशाना नहीं बनाया जा रहा है. लेकिन पश्चिमी मुल्कों को मॉस्को पर यकीन नहीं है.

पूर्वी यूक्रेन में रूस ने हमले किए तेज

वहीं, रूस ने यूक्रेन के पूर्वी औद्योगिक क्षेत्र में कोयला खदानों और कारखानों पर नियंत्रण हासिल करने के लिए मंगलवार को हमले तेज कर दिए. उसने शहरों और कस्बों के पास सैकड़ों मील लंबे मोर्चे को निशाना बनाया. रूसी बलों का मुख्य लक्ष्य पूर्वी डोनबास क्षेत्र पर कब्जा करना है. राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की सेना के यूक्रेन की राजधानी कीव पर कब्जा करने के असफल प्रयास के बाद यहां जीत उसके लिए बेहद महत्वपूर्ण हो गई है. पूर्वी शहर खारकीव और क्रामातोर्स्क पहले ही घातक हमलों की चपेट में हैं. रूस ने यह भी कहा कि उसने डोनबास के पश्चिम में जपोरिजिया और निप्रो के आसपास के क्षेत्रों पर मिसाइल हमले किए हैं.

Similar Posts