Ranchi Violence: आरोपियों का पोस्टर जारी करने पर JMM को हुआ दर्द, कहा- झारखंड को यूपी नहीं बनने देंगे

Ranchi Violence Acusd Poster

रांची हिंसा मामले में पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए सभी हिंसा में शामिल सभी उपद्रवियों की फोटो सार्वजनिक करते हुए राजधानी के विभिन्न चौक चौराहों पर पोस्टर लगा दिया. पर उसके कुछ देर बाद की पोस्टर हटा दिए गए. क्योंकि पोस्टर को लेकर झारखंड मुक्ति मोर्चा ने आपत्ति दर्ज की थी. वहीं पुलिस ने कहा कि पोस्टर में कुछ त्रुटियां हैं इसलिए इसपर संसोधन किया जाएगा. पोस्टर में सभी आरोपियों की तस्वीर और नाम छपे थे, साथ ही आरोपियो की सूचना देने के लिए रांची पुलिस के अधिकारियों का नंबर भी लिखा गया था.

राजधानी रांची में राजभवन के समीप जाकिर हुसैन पार्क के पास यह पोस्टर लगाया गया था. पर फिर जेएमएम की आपत्ति के बाद इसे उतार लिया गया. गौरतलब है कि हिंसा मामले को लेकर राज्यपाल रमेश बैस से 13 जून को राज्य के डीजीपी नीरज सिन्हा सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारियों को राजभवन तलब किया था और हिंसा में शामिल उपद्रवियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का आदेश देते हुए आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पोस्टर लगाने का निर्देश दिया था.

जेएमएम की आपत्ति के बाद हटा पोस्टर

इसके बाद ही पुलिस ने आदेश का पालन करते हुए जगह जगह पोस्टर लगाने का फैसला किया गया था. इसकी शुरुआत जाकिर हुसैन पार्क के पास से कि गयी थी. पोस्टर जारी करने के बाद रांची पुलिस ने जाकिर हुसैन के पास पोस्टर लगाया तो झारखंड मुक्ति मोर्चा ने तत्काल इस पर आपत्ति दर्ज की और पोस्टर को हटा लिया गया. पोस्टर हटाए जाने को लेकर झामुमों नेता सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि आरोपियों का पोस्टर लगाने से उत्तर प्रदेश और झारखंड का फर्क मिट जाएगा.

सार्वजनिक तौर पर किसी को बदनाम करना सही नहींः जेएमएम

जेएमएम के केंद्रीय कार्यसमिति के सदस्य सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि पोस्टर लगाने से पहले यह आकलन करना चाहिए कि समाज पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा. उन्होंने का कि जख्म को जितना हरा किया जाएगा उतना अधिक फैलेगा. पुलिस को आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करनी है तो उन्हें चिन्हित करें और जेल भेजे किसी को भी सार्वजनिक तौर पर बदनाम करना सही नहीं है.

Similar Posts