Ramadan 2022: आज रखा गया 18वां रोजा, गर्मी के बीच इन खास फलों के सेवन की दी गई सलाह, जानें क्या है इफ्तार की टाइमिंग

Iftar J

देशभर में आज रमजान (Ramadan 2022) का अठाहरवां रोजा रखा गया है. इस्लाम धर्म का पाक महीना रमजान आधा खत्म हो चुका है. इस महीने में लोग रोजा रखते हैं और अल्लाह की इबादत करते हैं. इन दिनों देशभर में चिलचिलाती हुई गर्मी पड़ रही है, जिसकी वजह से रोजेदारों का अच्छा खासा इम्तिहान लिया जा रहा है. हालांकि, गर्मी की सितम रोजेदारों पर न के बराबर दिख रहा है, क्योंकि वे अल्लाह की इबादत के लिए रोजा रख रहे हैं. मस्जिदों से सुबह के समय सहरी (Sehri Timings) के लिए उठने के लिए ऐलान किया जाता है. इसके बाद लोग अपने बिस्तरों को छोड़ते हैं और सहरी कर रोजे की शुरुआत करते हैं. लोग सुबह के वक्त फजर की नमाज भी अदा करते हैं.

रमजान के महीने में रोजेदार पूरा दिन बिना खाना-पानी के रहते हैं. रोजा रखने के दौरान पूरा दिन इबादत में गुजार दिया जाता है. सहरी खाकर रोजे की शुरुआत करने वाले रोजेदारों को शाम के वक्त इफ्तार (Iftar Timings) का इंतजार रहता है. इफ्तार के बाद रोजेदार मगरीब की नमाज अदा करते हैं. वहीं, रात के वक्त ईशा की नमाज अदा की जाती है, फिर तरावीह की नमाज पढ़ी जाती है. रमजान का महीना इस्लाम धर्म का सबसे पाक महीना होता है. इस महीने में लोग अल्लाह की इबादत करने के साथ ही लोगों की भी बढ़-चढ़कर मदद करते हैं. गरीबों और जरूरतमंदों के बीच बढ़-चढ़कर दान किया जाता है. इसके अलावा, खुद को बुरे कामों से दूर रखा जाता है.

जानें क्या है आपके शहर में सहरी और इफ्तार की टाइमिंग

शहर तारीख सहरी टाइमिंग इफ्तार टाइमिंग
दिल्ली 20 अप्रैल 2022 04:27 AM 06:52 PM
हैदराबाद 20 अप्रैल 2022 04:39 AM 06:52 PM
लखनऊ 20 अप्रैल 2022 04:16 AM 06:35 PM
पटना 20 अप्रैल 2022 04:02 AM 06:16 PM
मुंबई 20 अप्रैल 2022 05:02 AM 06:58 PM
कोलकाता 20 अप्रैल 2022 03:54 AM 05:59 PM

रोजेदारों से पानी वाली चीजों का सेवन करने को कहा गया

गर्मी को देखते हुए रोजेदारों से कहा जा रहा है कि वे अपने शरीर में पानी की मात्रा को बनाए रखें. इसके लिए वे सहरी और इफ्तार के वक्त ज्यादा से ज्यादा मात्रा में पानी से भरपूर फलों का सेवन करें. इसमें तरबूज, नारियल पानी और खरबूज जैसे फल शामिल हैं. साथ ही रोजेदारों को तली हुई चीजों से दूर रहने को कहा गया है. शरीर में पानी की कमी होने से कई तरह की बीमारियां घर कर सकती हैं. ऐसे में पानी की मात्रा को बनाए रखना जरूरी होता है. रमजान का महीना पूरा होने के बाद लोग मीठी ईद या कहें ईद-उल-फितर का त्योहार मनाते हैं.

Similar Posts