Rajasthan: ‘बूथ जीता तो चुनाव जीता’ थीम पर चुनावी मैदान में उतरेगी BJP, 52 हजार बूथों पर होंगे सम्मेलन

Bjp Working Cmt

राजस्थान विधानसभा चुनावों से पहले बीजेपी चुनावी मोड में आ चुकी है. राज्यसभा चुनावों में एक सीट पर हार के बाद पार्टी आगामी रणनीति पर मंथन कर रही है. इसी सिलसिले में बीजेपी (bjp election strategy) की राजस्थान प्रदेश कार्यसमिति (bjp working committee) की दो दिवसीय बैठक कोटा में चल रही है. कार्यसमिति की बैठक के दूसरे दिन विधानसभा चुनाव 2023 की रणनीति पर नए सिरे से चर्चा की गई. इसके साथ ही राज्यसभा चुनाव समेत पिछले साढ़े 3 साल में राजस्थान में हुए चुनावों में बीजेपी की हार को लेकर भी एनालिसिस किया गया. बूंदी रोड स्थित निजी रिसोर्ट में 2 दिन तक चली वर्किंग कमेटी की बैठक में प्रदेश और केन्द्रीय संगठन के कई पदाधिकारी शामिल रहे. बैठक में बीजेपी (rajasthan bjp) प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह, सह प्रभारी भारती बेन सियाल, संगठन महामंत्री चंद्रशेखर, प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, पूर्व सीएम वसुंधरा राजे, उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़, केन्द्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, समेत तमाम कार्यसमिति सदस्य मौजूद रहे.

बता दें कि कार्यसमिति की बैठक में विधानसभा चुनाव 2023 की स्ट्रैटेजी नए सिरे से तय की गई. इसके साथ ही राज्यसभा चुनाव समेत पिछले साढ़े 3 साल में हुए अन्य चुनावों के परिणामों पर भी मंथन किया गया.

52 हजार बूथों पर होंगे सम्मेलन

कार्यसमिति की बैठक में बीजेपी ने फैसला किया है कि प्रदेश की गहलोत सरकार को टक्कर देने के लिए प्रदेश में सभी 52 हजार बूथों पर एक साथ बूथ सम्मेलन आयोजित किए जाएंगे और बूथों की कार्यसमिति बैठकें होंगी। बीजेपी ‘बूथ जीता तो चुनाव जीता’ थीम पर चुनावों में उतरने जा रही है.

कार्यसमिति की बैठक के मुताबिक आने वाले दिनों में बीजेपी सांसद-विधायक और सीनियर नेता बूथ लेवल पर दौरे करेंगे और 31 जुलाई तक लगातार बूथ मैनेजमेंट प्रोग्राम होंगे. इससे पहले प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि हाड़ौती संभाग में बीजेपी कार्यसमिति की बैठक के जरिए साल 2023 के विधानसभा चुनावों का आगाज करने जा रही है.

बीजेपी विधायक शोभारानी सस्पेंड

वहीं कार्यसमिति की बैठक में राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोटिंग करने वाली बीजेपी विधायक शोभारानी कुशवाह को पार्टी से निकालने का फैसला भी लिया गया. बीजेपी की केंद्रीय अनुशासन समिति ने कहा कि शोभारानी ने स्पष्टीकरण देना तो दूर पार्टी नेतृत्व पर ही सार्वजनिक रूप से आरोप लगाए हैं. पत्र में कहा गया है कि शोभारानी ने पार्टी हाईकमान पर झूठे आरोप लगाए हैं.

Similar Posts