Rajasthan: कांग्रेस सदस्यता अभियान में 40 लाख नए सदस्य बनाने का दावा, बीजेपी बोली- चुनाव लड़वाने का लालच देकर बनाए मेंबर

Pcc Jaipur 2

राजस्थान में अगले साल आखिर में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले कांग्रेस और बीजेपी अपने सदस्यता अभियान को लेकर अलग-अलग दावे कर रही है. इसी बीच प्रदेश में चल रहा कांग्रेस का सदस्यता (congress membership campaign) अभियान पूरा हो गया जिसके बाद राजस्थान (rajasthan) में कई नेताओं और मंत्रियों की जमीनी स्तर पर इस अभियान में पोल खुल गई. एआईसीसी (AICC) की ओर से चलाए जा रहे डिजिटल सदस्यता अभियान में पहले 90 दिनों में राजस्थान में कांग्रेस के महज 6 लाख नए सदस्य बने जिसके बाद टारगेट पूरा नहीं होने की चर्चाएं तेज हो गई थी. मिली जानकारी के मुताबिक एआईसीसी की ओर से अभियान की समय सीमा बढ़ाए जाने के बाद आखिरी के 15 दिनों में अभियान में 15 लाख नए सदस्य जोड़ दिए गए. दरसअल राजस्थान में अगले साल विधानसभा चुनाव (rajasthan assembly election) होने हैं जिसको देखते हुए प्रदेश में एक नवम्बर से सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस ने डिजिटल सदस्यता अभियान शुरू किया था. राज्य की सभी 200 विधानसभा सीटों पर डिजिटल सदस्यता अभियान चलाया गया था.

वहीं हाल में बीजेपी और कांग्रेस के बीच नए सदस्य जोड़ने को लेकर जुबानी जंग भी छिड़ गई थी. कांग्रेस का दावा है कि डिजिटल सदस्यता अभियान पूरी तरह पारदर्शी और इसमें फर्जीवाड़े की कोई गुंजाइश नहीं है. वहीं बीजेपी का कहना था कि कोई भी वर्तमान में कांग्रेस में शामिल होने को तैयार नहीं है.

40 लाख नए सदस्य बनाने का दावा

कांग्रेस ने अभियान के खत्म होने के बाद दावा किया है कि डिजिटल सदस्यता अभियान पूरी तरह से पारदर्शी था जिसमें कांग्रेस को 50 लाख सदस्य बनाने का टागरेट दिया गया था. प्रदेश कांग्रेस की ओर से दावा किया गया है कि ऑफलाइन और ऑनलाइन मिलाकर करीब 40 लाख नए सदस्य बनाए गए है जिनमें 21 लाख ऑनलाइन सदस्य बनाए गए हैं.

वहीं ऑनलाइन सदस्यों में 3 लाख सदस्य प्रोविजन सूची से जोड़े गए हैं. हालांकि कांग्रेस का यह भी कहना है कि ऑनलाइन प्रक्रिया में लोगों की दिलचस्पी कम होने के चलते ऑफलाइन माध्यम से ही टारगेट पूरा किया गया. अभियायन में सबसे टॉप पर जोधपुर की फलौदी विधानसभा रही.

बीजेपी-कांग्रेस में जुबानी जंग

वहीं कांग्रेस के सदस्यता अभियान पर राजस्थान के कैबिनेट मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि पहली बार, कांग्रेस का पूरे राज्य में बहुत अच्छा सदस्यता अभियान रगा जो कि बीजेपी के मिस्ड कॉल सदस्यता अभियान से बेहतर था. खाचरियावास ने कहा कि थोड़ी तकनीकी खामियां रही नहीं सिर्फ डिजिटल सदस्यता 50 लाख से ऊपर चली गई होती. वहीं बीजेपी ने कहा कि आज के हालातों में कोई कांग्रेस में शामिल होने को तैयार नहीं है.

बीजेपी प्रवक्ता रामलाल शर्मा ने कहा कि पहले प्रदेश कांग्रेस प्रमुख ने करीब 50 लाख नए सदस्यों का ऐलान किया था, उसके बाद वे प्रलोभन देने लगे कि सदस्यता अभियान में सबसे अधिक संख्या पाने वालों को ही विधानसभा चुनाव के लिए योग्य माना जाएगा.

Similar Posts