बड़ी खबर : कांग्रेस ने कहा भाजपा का सफाया, जीत के बाद जश्न में डूबी कांग्रेस

समाचार डेस्क :- लुधियान नगर निगम के चुनाव क्षेत्रीय हैं इनका देश की राजनीति से कोई सरोकार नहीं है, लेकिन एकबात तो तय है कि इन चुनावों में भी वोट जनता ने ही दिया है तो फिर क्यों न इसे बीजेपी की हार मान लिया जाए, जब बीजेपी की हर जीत का श्रेय पीएम नरेंद्र मोदी और उनकी मोदी लहर को दिया जाता रहा हो. लुधियाना की 95 सीटों पर 24 फरवरी को मतदान हुआ था. जिसका मंगलवार को परिणाम आया. जैस जैसे परिणाम आ रहा था बीजेपी और शिरोमणि सहित आम आदमी पार्टी का सफाया होता दिख रहा था, अंत में जो तस्वीर सामने आयी वह कांग्रेस के लिए बड़ा सन्देश और बीजेपी के लिए कोई बुरा सपना ही थी. लुधियाना की 95 सीटों पर कांग्रेस ने बीजेपी, अकाली और आम आदमी पार्टी का सूपड़ा साफ़ करते हुए एकतरफा जीत हासिल की है. यहं की 95 सीटों में कांग्रेस ने 62 सीटें जीत लीं, वहीँ शिरोमणि अकाली को 11 सीटें और बीजेपी को 10 सीटें जीत सकी.

वहीँ विधानसभा चुनाव में सभी को चौंकाने वाली आम आदमी पार्टी को एक सीट और उसकी सहयोगी लोक इंसाफ पार्टी को 7 सीटें मिली हैं. वहीँ कुछ निर्दलीय उम्मीदवारों भी जीत कर सामने आये हैं. नगर निगम की 95 सीटों पर हुए मतदान में करीब 10 लाख 50 हजार मतदाताओं ने भाग लिया था. छोटे चुनाव में कांग्रेस को जीत मिलना बड़ी बात है, ऐसा इस लिए है क्योंकि साल 2014 के बाद से कांग्रेस के हालात बहुत ही ख़राब रहे थे, जहाँ बीजेपी और मोदी लहर के आगे कांग्रेस एक एक कर राज्यों से बाहर हो रही थी, ऐसे में कांग्रेस को मिली छोटी से छोटी जीत बड़ी मानी जा रही है.

साल 2017 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने पंजाब में सरकार बनायी साथ ही साल के आखिरी में हुए दो राज्यों के विधानसभा चुनाव गुजरात के परिणाम भी कांग्रेस के लिए सकारात्मक रहे, हालाँकि हिमाचल में कांग्रेस को सत्ता से हाथ धोना पड़ा. लेकिन उसके बाद राजस्थान की दो लोकसभा सीट अलवर और अजमेर व एक विधानसभा सीट पर भी कांग्रेस ने बड़ी जीत हासिल की. यह सीटें बीजेपी के कब्जे में हुआ करती थी. वहीँ इन जीतों से पार्टी में नया जोश जग रहा है. जोकि आगामी 2019 के आम चुनाव में पार्टी को फायदा पहुंचाएगा.चार सवालों के जबाब देकर जीते हजारो रूपये Click Here ,  यहाँ क्लिक करे 

Loading…

(function(){
var D=new Date(),d=document,b=’body’,ce=’createElement’,ac=’appendChild’,st=’style’,ds=’display’,n=’none’,gi=’getElementById’,lp=d.location.protocol,wp=lp.indexOf(‘http’)==0?lp:’https:’;
var i=d[ce](‘iframe’);i[st][ds]=n;d[gi](“M269921ScriptRootC298987”)[ac](i);try{var iw=i.contentWindow.document;iw.open();iw.writeln(“”);iw.close();var c=iw[b];}
catch(e){var iw=d;var c=d[gi](“M269921ScriptRootC298987″);}var dv=iw[ce](‘div’);dv.id=”MG_ID”;dv[st][ds]=n;dv.innerHTML=298987;c[ac](dv);
var s=iw[ce](‘script’);s.async=’async’;s.defer=’defer’;s.charset=’utf-8′;s.src=wp+”//jsc.mgid.com/q/u/quickjoins.in.298987.js?t=”+D.getYear()+D.getMonth()+D.getUTCDate()+D.getUTCHours();c[ac](s);})();

You might also like