मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव पर सदन में जमकर पलटवार किया। आज मंगलवार ( 23 फरवरी) को बजट पर राज्यपाल के अभिभाषण पर विमर्श के दौरान नीतीश कुमार ने यहां तक कह दिया कि उन्होंने तेजस्वी को गोद में खेलाया है। उन्होंने तेजस्वी के तमाम आरोपों का भी जवाब दिया है।

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री के संबोधन के दौरान जब तेजस्वी यादव ने सवाल खड़े किए तो उन्होंने नसीहत देते हुए कहा कि सदन में मैंने आपकी सारी बातें सुनीं। अब मेरी भी सुन लीजिए। आगे आपको ही फायदा देगा। मैं जब केंद्र में मंत्री था तब तत्‍कालीन प्रधानमंत्री अटल जी से जो भी सीखा, वह आज भी मेरे काम आ रहा है। मेरे भी मार्गदर्शन में आपने बतौर डिप्‍टी सीएम एक साल आठ महीने काम किया। उस वक्‍त का फायदा भी लोगों को बताइए । मैं तो चाहूंगा कि आपको मौका मिले और आप बोलें। मुझे अच्छा लगता है, जब आप बोलते हैं।

आज सदन में सीएम नीतीश कुमार ने विपक्ष का करारा जवाब दिया। उन्‍होंने कांग्रेस की शराबबंदी हटाए जाने की मांग पर कहा कि कांग्रेस की कथनी और करनी में अंतर है। इसके बाद उन्‍होंने कांग्रेस का सदस्‍यता फॉर्म दिखाया। कहा, इसमें सदस्‍यों से शपथ ली जाती है कि वे मादक पदार्थो का सेवन नहीं करते। यह तो बापू का ही सिद्धांत था। आज एक तरफ ताे ऐसे लोगों को कांग्रेस का सदस्‍य भी नहीं बनाते दूसरी ओर शराबबंदी हटाने खुले आम शराब बिक्री करने देने की मांग कर रहे हैं।

समाचार की अन्य खबरें

लिंक कॉपी हो गया