ग्वालियर| ग्वालियर स्मार्ट सिटी द्वारा लगातार शहर के एबीडी और पेन एरिया में कई विकास कार्यो को किया जा रहा है। इस क्रम में शहर में यातायात को सुगम और सुव्यवस्थित बनाने में स्मार्ट सिटी की आईटीएमएस परियोजना का अपना महत्वपूर्ण योगदान है। इस प्रोजेक्ट के माध्यम से शहर के व्यस्त मार्गों व चौराहों पर यातायात को सुगम बनाने के लिये आधुनिक तकनीक से सुधार किये जा रहे हैं।

इस परियोजना में आधुनिक ऑटमैटिड ट्रैफ़िक लाइट्स, मार्ग के अनुरूप डिवाइडर, ज़ेब्रा क्रॉसिंग आदि को विशेष तकनीक की सहायता से विकसित किया जा रहा है। वही इस परियोजना के तहत ग्वालियर के कंट्रोल कमांड सेटर में अलग से कंट्रोल रुम की स्थापना भी की गई है, जिसके द्वारा यातायात नियम तोडने वालो का ई-चालान किया जा रहा है। शहर में आईटीएमएस के द्वारा जब से ई-चालान की शुरुआत कि गई है, तब से आम लोगो में भी यातायात  नियमो को लेकर जागरुकता बढी है, और वह नियमो का पालन भी कर रहे है।

ग्वालियर स्मार्ट सिटी सीईओ श्रीमती जयति सिंह नें जानकारी देते हुये बताया कि ग्वालियर स्मार्ट सिटी का मुख्य उद्देश्य आम नागरिक के जीवन को सुगम बनाना है।

इसी का एक भाग आईटीएमएस परियोजना भी है। इस परियोजना के तहत शहर के चिन्हित चौराहो पर विश्व स्तरीय आधुनिक तकनीक वाले सिग्नल और कैमरे लगाये जा रहे हैं, औऱ जिन चौराहो पर कार्य पूर्ण होते जा रहे है, उन्हे कंट्रोल रुम से जोडकर यातायात नियमो को तोडने वालो के खिलाफ ई-चालान की कार्यवाही की जा रही है।

श्रीमती सिंह नें बताया कि आईटीएमएस परियोजना के तहत यातायात संचालन और मोनिटरिंग से शहर के मुख्य चौराहो पर ट्रैफिक व्यवस्था सुचारु होने में काफी मदद मिली है वही ई-चालान के शुरु होने से आमजन भी यातायात नियमो को लेकर काफी सजग हुये है।

श्रीमती सिंह नें बताया कि आईटीएमएस परियोजना के तहत 31 तिराहा-चौराहा पर अत्याधुनिक सिग्नल लगाये जाने है। जिनमें से 21 विभिन्न चौराहो औऱ तिराहो पर आईटीएमएस सिस्टम के द्वारा ई-चालान शुरु किया जा चुका है। शेष बचे हुये चौराहो औऱ तिराहो पर सिग्नल लगाने का कार्य अंतिम चरण में है, और जल्द ही इन्हे कंट्रोल रुम से जोड दिया जायेगा।

अजब गजब,समाचार की अन्य खबरें

लिंक कॉपी हो गया