तिर्वा कस्बे के अन्नपूर्णानगर निवासी गोपाल राजपूत ठठिया रोड पर लोगों का इलाज करते हैं। इनका बेटा अभिषेक (16) कस्बे के महेंद्र नीलम जनता इंटर कालेज में इंटर का छात्र था। चार फरवरी को उसके साथ पढ़ने वाले मोहल्ले के दो दोस्त प्रवेश पत्र लेने के नाम पर कालेज लिवा गए थे, लेकिन वे अपहरण कर उसे जंगल में लेकर चले गए और प्लानिंग के तहत उसकी हत्या कर शव को ठिकाने लगा दिए। (हत्या के बाद इसी गड्ढे में दफनाया गया था शव, इनसेट में मृत छात्र अभिषेक की फाइल फोटो)बेटे के घर न आने पर परिवार के लोग परेशान हो गए।

पांच फरवरी को कोतवाली में गोपाल ने बेटे के लापता होने की रिपोर्ट दर्ज कराई। 10 फरवरी की रात करीब साढ़े 10 बजे गोपाल के फोन पर कॉल आई आर सूचना देकर आठ लाख की फिरौती मांगी। इसकी जानकारी गोपाल ने तिर्वा कोतवाल टीपी वर्मा को दी। 12 फरवरी को सर्विलांस टीम ने मोबाइल नंबर के आधार पर उसके दोस्तों तक पहुंच गई। (हत्यारोपी चारों दोस्तों को गिरफ्तार करने के बाद मीडिया को घटना के बारे में बताते एसपी अमरेंद्र प्रसाद सिंह)पूछताछ में बताया कि फिरौती में आठ लाख रुपये के लालच में चार सहपाठियों ने मिलकर उसका अपहरण किया था।

पुलिस ने सभी को हिरासत में ले लिया। आरोपियों ने बताया कि चार फरवरी की सुबह करीब 10 बजे अपहरण कर दोपहर करीब 12 बजे अभिषेक की हत्या कर दी थी। लाश को गुरसहायगंज कोतवाली के तेरारब्बू के जंगल में गड्ढा खोदकर दबा दिया था। (इन्हीं हथियारों से की गई थी छात्र अभिषेक की हत्या, पुलिस ने किया है हत्यारोपी दोस्तों की निशानदेही पर बरामद)

पुलिस ने गड्ढे से अभिषेक का कंकाल, जूते और हत्या में प्रयुक्त चाकू बरामद कर लिया। शव को कुत्तों ने नोच डाला था। सिर कुछ दूरी पर पड़ा मिला। (दोस्तों ने हत्या के बाद इसी गड्ढे में दफनाया था मृत छात्र अभिषेक का शव)एसपी अमरेंद्र प्रसाद सिंह ने मीडिया को बताया कि इस सनसनीखेज मामले में आरोपी छात्रों के अलावा किसी पेशेवर के शामिल होने की आशंका है। सभी छात्रों से अलग-अलग पूछताछ हो रही है। पुलिस ने गड्ढे से अभिषेक का कंकाल, जूते और हत्या में प्रयुक्त चाकू बरामद कर लिया। (हत्या की जानकारी होने पर मृत छात्र अभिषेक के घर जुटे लोग)

अजब गजब की अन्य खबरें

लिंक कॉपी हो गया