उत्तराखंड की हरिद्वार पुलिस ने एक ऐसी लुटेरी दुल्हन को अरेस्ट किया है, जो अपने पति के इशारे पर शादियां करती थीं। फिर गहने-पैसे लेकर फरार हो जाती थी। इस लुटेरी दुल्हन ने चंडीगढ़ के एक शख्स से शादी विवाह उसे धोखा दिया। शादी के कुछ दिनों बाद ही लुटेरी दुल्हन ससुराल से 50 हजार रुपए और जेवरात लेकर रफूचक्कर हो गई। पुलिस ने लुटेरी दुल्हन के साथ उसके असली पति को भी गिरफ्तार कर लिया है। दरअसल, इस गिरोह का मास्टरमाइंड उसका पति ही है।

ये दोनों अपने आप को भाई-बहन की तरह पेश करते थे। इस फ्रॉड कपल को हरिद्वार से पकड़ा गया। इनका असली नाम अंजलि और महावीर है। एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय ने बताया कि अंजलि अपना नाम बदलकर यानी पूजा बनकर चंडीगढ़ के रहने वाले युवक से मिली थी। इसके बाद दोनों ने 18 दिसंबर को विवाह कर लिया था। 7 जनवरी को दोनों हनीमून पर हरिद्वार आए थे। दोनों एक होटल में ठहरे थे। इसी बीच अंजलि मौका देखकर 50,000 रुपए और जेवरात लेकर भाग निकली। पीड़ित युवक ने कोतवाली में इसकी शिकायत दर्ज कराई थी। उत्तराखंड की हरिद्वार पुलिस ने एक ऐसी लुटेरी दुल्हन को अरेस्ट किया है, जो अपने पति के इशारे पर शादियां करती थीं। फिर गहने-पैसे लेकर फरार हो जाती थी। इस लुटेरी दुल्हन ने चंडीगढ़ के एक शख्स से शादी विवाह उसे धोखा दिया। शादी के कुछ दिनों बाद ही लुटेरी दुल्हन ससुराल से 50 हजार रुपए और जेवरात लेकर रफूचक्कर हो गई। पुलिस ने लुटेरी दुल्हन के साथ उसके असली पति को भी गिरफ्तार कर लिया है। दरअसल, इस गिरोह का मास्टरमाइंड उसका पति ही है।

ये दोनों अपने आप को भाई-बहन की तरह पेश करते थे। इस फ्रॉड कपल को हरिद्वार से पकड़ा गया। इनका असली नाम अंजलि और महावीर है। एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय ने बताया कि अंजलि अपना नाम बदलकर यानी पूजा बनकर चंडीगढ़ के रहने वाले युवक से मिली थी। इसके बाद दोनों ने 18 दिसंबर को विवाह कर लिया था। 7 जनवरी को दोनों हनीमून पर हरिद्वार आए थे। दोनों एक होटल में ठहरे थे। इसी बीच अंजलि मौका देखकर 50,000 रुपए और जेवरात लेकर भाग निकली। पीड़ित युवक ने कोतवाली में इसकी शिकायत दर्ज कराई थी।

समाचार की अन्य खबरें

लिंक कॉपी हो गया