NEET 2022: जीएनएम, बीएससी नर्सिंग में एडमिशन के लिए देनी होगी नीट की परीक्षा, सीएम योगी आदित्यनाथ ने की घोषणा

Newly elected MLAs will take oath in Uttar Pradesh assembly pavilion on 28 March

GNM BSc Nursing Admission 2022: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा यानी नीट परीक्षा (NEET Exam) के जरिए जनरल नर्सिंग एंड मिडवाइफरी (जीएनएम) और बीएससी नर्सिंग कोर्स में एडमिशन लेने की घोषणा की है. साथ ही उन्होंने पैरामेडिकल स्कूलों की स्थापना, आयुष कॉलेजों की संबद्धता जैसी शिक्षा पर को लेकर कई अन्य बड़ी घोषणाएं की हैं. सीएम ने कहा कि जीएनएम और बीएससी नर्सिंग में एडमिशन लेने वाले उम्मीदवारों को पहले नीट परीक्षा पास करनी होगी. मुख्यमंत्री कार्यालय के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से एक ट्वीट में उन्होंने घोषणा की कि योग्यता और कौशल विकास में सुधार के लिए हर राज्य के मेडिकल कॉलेज में कौशल प्रयोगशाला स्थापित की जानी चाहिए.

छह महीने में पांच नए नर्सिंग स्कूल स्थापित किए जाएंगे

सीएम ने कहा, ‘पैरामेडिकल के कौशल विकास के लिए 5 नए कोर्स ओटी टेक्निशियन, रेडियोथेरेपी टेक्निशियन, एनेस्थीसिया टेक्निशियन, डायलिसिस टेक्नीशियन और एमआरआई टेक्नीशियन को जोड़ने के लिए एक्शन प्लान बनाया जाए. उत्तर प्रदेश में नर्सिंग और पैरामेडिकल शिक्षा (UP paramedical education) की संख्या और गुणवत्ता में सुधार पर भी जोर दिया जाए. इस दिशा में उन्होंने अगले छह महीने के भीतर पांच नए नर्सिंग स्कूल, तीन नए पैरामेडिकल स्कूल और 24 स्किल लैब स्थापित करने की घोषणा की है. उन्होंने यह भी कहा कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा यूपी में अगले छह महीने में करीब 10,000 पैरामेडिकल स्टाफ की भर्ती की जाए. इसके लिए उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन बोर्ड (UPSSSC) को नियुक्ति प्रक्रिया को पूरा करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है.

कॉलेजों में योग और प्राकृतिक चिकित्सा का सिलेबस विश्वविद्यालय द्वारा तैयार किया जाए

आयुष कॉलेजों के संबंध में आदित्यनाथ ने कहा कि सरकारी और प्राइवेट (Sarkari and Private) दोनों आयुष महाविद्यालयों को महायोगी गुरु गोरखनाथ आयुष विश्वविद्यालय से संबद्ध किया जाना चाहिए. उन्होंने यह भी कहा कि इन कॉलेजों में योग और प्राकृतिक चिकित्सा का पाठ्यक्रम विश्वविद्यालय द्वारा तैयार किया जाना चाहिए. उत्तर प्रदेश सरकार प्रत्येक आंगनवाड़ी के लिए एक बिल्डिंग बनाने के लिए और बुनियादी ढांचे में सुधार, ऑडियो-विजुअल ऐड्स करने और स्वच्छ ऊर्जा स्थापित करके उन्हें कुशलता से विकसित करने की पहल करेगी.

Similar Posts