MMS पर क्या है कानून? अगर ये हरकत भी की तो कई साल जेल में जाना पड़ेगा

Hidden Camera

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में गर्ल्स हॉस्टल में छात्राओं के आपत्तिजनक वीडियो बनाए जाने के मामले को लेकर बवाल जारी है. पुलिस ने आरोपित छात्रा के बाद दो युवकों को शिमला से गिरफ्तार किया है. वहीं, कॉलेज में छात्राओं का प्रदर्शन जारी है और उन्होंने सोमवार को भी यूनिवर्सिटी के गेट नंबर 2 पर हंगामा किया. आरोप है कि गर्ल्स हॉस्टल में रहने वाली एक छात्रा ने 60 छात्राओं का नहाते वक्त वीडियो रिकॉर्ड किया और वो इन वीडियो को किसी को भेजती थी.

ऐसे में सवाल है कि भारत में इस तरह की हरकतों को लेकर क्या कानून है और आरोपी व्यक्ति पर किन किन धाराओं के तहत कार्रवाई की जाएगी. तो आज हम आपको बताते हैं कि एमएमएस को लेकर कानून क्या कहता है और आरोप सिद्ध होने पर क्या सजा हो सकती है….

किस तरह के तहत होगी कार्रवाई?

बता दें कि छात्रा और उसके बॉयफ्रेंड को गिरफ्तार करके आईपीसी की धारा 354 सी और आईटी एक्ट में केस दर्ज किया गया है. इसके साथ ही इन लोगों पर आइटी एक्ट की धारा (66ई) भी लगाई है. अब इन धाराओं के तहत इन पर कार्रवाई की जाएगी और दोषी पाए जाने पर जेल भी हो सकती है.

क्या है सेक्शन 354 सी?

अगर कोई व्यक्ति किसी महिला की उस वक्त फोटो क्लिक करता हो या वीडियो बनाता है, जब वो कोई प्राइवेट एक्ट कर रही हो. यानी अगर कोई अपना निजी कार्य कर रही है और उस वक्त उसे उम्मीद है कि कोई उसे देख नहीं रहा होगा. ऐसे में इस वक्त कोई महिला को कैमरे में कैद करता है तो उस हरकत पर धारा 354 सी के तहत कार्रवाई की जाएगी.

बता दें कि प्राइवेट एक्ट में वो सभी निजी पल और काम शामिल हैं, जो अपनी प्राइवेसी में करती हैं. वीडियो में अगर महिला के प्राइवेट पार्ट दिखाई दे या फिर महिला इनरवियर्स में दिखाई दे या फिर शौचालय इस्तेमाल करते हुए नजर आए या कोई ऐसा कार्य करते हुए नजर आए जो वो पब्लिक में नहीं कर सकती हैं, तो उस पर कार्रवाई की जाएगी. बता दें कि इन धारा में दोषी पाए जाने पर पहली बार गलती पर 1 से 3 साल और बाद में 3 से 7 साल तक की सजा हो सकती है. इसके साथ ही दोषी व्यक्ति पर जुर्माना भी लगाया जा सकता है.

आईटी एक्ट में क्या है प्रावधान?

आईपीसी के साथ ही आईटी एक्ट में भी इस तरह की हरकतों पर सजा का प्रावधान है. आईटी एक्ट में भी धारा 66 इ के तहत किसी की भी प्राइवेसी भंग करने पर, धारा 67 के तहत आपत्तिजनक सूचनाओं के प्रकाशन और अश्लील सूचनाओं को प्रकाशित करने पर कार्रवाई की जा सकती है. बता दें कि अगर आपके साथ भी ऐसा कभी होता है तो आप इसकी शिकायत पुलिस में करें.

और भी पढ़ें- नॉलेज की खबरें