Malda Blast: मालदा में बम विस्फोट के मामले में NCPCR ने बंगाल के CS को किया तलब, 20 मई को हाजिर होने का निर्देश

Malda Blast Child

पश्चिम बंगाल के मालदा जिले (Malda Blast ) के कालियाचक के गोलाबगंज गांव में बम विस्फोट में पांच स्कूली बच्चे कथित तौर पर घायल होने के मामले में निकाय राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ( NCPCR) ने राज्य के मुख्य सचिव को रिपोर्ट के साथ 20 मई को तलब किया है. विस्फोट के बाद विधायक श्रीरूपा मित्रा चौधुरी ने एनसीपीसीआर के चेयरमैन कानूनगो प्रियंक ने पश्चिम बंगाल के अधिकारियों से कच्चे बम विस्फोट में घायल हुए चार बच्चों को विशेष चिकित्सा उपचार देने के लिए कहा था और इस मामले में मुख्य सचिव (Chief Secretary of West Bengal) और पुलिस महानिदेश से रिपोर्ट तलब की थी. पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक को लिखे पत्र में एनसीपीसीआर ने उनसे घटना की विस्तृत जांच करने और 10 दिनों के भीतर एक रिपोर्ट देने को कहा था. उसी के मद्देनजर एनसीपीसीआर चेयरमैन ने राज्य के मुख्य सचिव को पत्र देकर 20 मई को दोपहर तीन बजे कार्य रिपोर्ट के साथ हाजिर होने का निर्दश दिया है.

बता दें कि इसी मामले में कलकत्ता हाईकोर्ट ने पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार से रिपोर्ट तलब की थी. इसके साथ ही जांच एजेंसी एनआईए को भी मामले में पार्टी बनाने का निर्देश दिया था. बॉल खेलते समय बम उठाने के बाद हुए विस्फोट के मामले में कलकत्ता हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका (पीआईएल) दायर की गई थी. जनहित याचिका में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) से जांच कराने की मांग की गयी थी.

एनसीपीसीआर चेयरमैन ने राज्य के मुख्य सचिव को किया तलब

बीजेपी विधायक श्रीरूपा मित्रा ने ट्वीट किया, गोलाबगंज मालदा बम विस्फोट में जीवित बचे बच्चों को तत्काल चिकित्सा सहायता और वित्तीय मुआवजे के लिए मेरी दूसरे दौर की याचिकाओं पर सीएस को समन जारी करने के लिए तत्काल कदम उठाने के लिए NCPCR_ और अध्यक्ष Kanoongo Priyank जी का आभारी हूं. ”

बम विस्फोट मामले में चार टीएमसी नेताओं की हुई थी गिरफ्तारी

इस मामले में मालदा पुलिस ने टीएमसी के चार नेताओं को गिरफ्तार किया था. बीजेपी के केंद्रीय सह प्रभारी अमित मालवीय और बंगाल बीजेपी के अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने बंगाल की सीएम ममता बनर्जी की सरकार पर हमला बोलते हुए कहा था कि बंगाल में केवल बम उद्योग की फल-फूल रहे हैं. इस घटना के बाद बीजेपी की विधायक श्रीरूपा मित्रा ने एनसीपीसीआर अध्यक्ष से मुलाकात की थी और पूरे मामले की एनआईए जांच कराने की मांग की थी.

Similar Posts