Jahangirpuri Violence Update: हिंसा पर एक्शन को लेकर ओवैसी ने साधा निशाना, कहा- BJP का गरीबों के खिलाफ जंग का ऐलान

Asaduddin Owaisi

दिल्ली के जहांगीरपुरी हिंसा (Jahangirpuri violence) पर AIMIM के चीफ असदुद्दीन ओवैसी लगातार केंद्र और दिल्ली सरकार पर निशाना साध रहे हैं. जहांगीरपुरी क्षेत्र में अवैध कब्जों के खिलाफ बुलडोजर से कार्रवाई के फैसले को लेकर सांसद असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने गहरी नाराजगी जताई और इसे ‘बीजेपी का गरीबों पर जंग का ऐलान’ करान दिया तो वहीं इस फैसले पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजेरीवाल (arvind kejriwal) की भूमिका को संदिग्ध बताया.

जहांगीरपुरी हिंसा को लेकर AIMIM नेता असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट के जरिए कहा कि बीजेपी ने गरीबों के खिलाफ जंग का ऐलान कर दिया है. बीजेपी अतिक्रमण के नाम पर उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश की तरह दिल्ली में भी घरों को तबाह करने जा रही है. कोई नोटिस नहीं, कोर्ट जाने का मौका तक नहीं, बस गरीब मुसलमानों को जिंदा रहने की सजा देना. सीएम अरविंद केजरीवाल को भी अपनी संदिग्ध भूमिका को स्पष्ट करना चाहिए.

ओवैसी ने ट्वीट के जरिए दिल्ली सरकार पर साधा निशाना

अपने अगले ट्वीट में ओवैसी ने दिल्ली सरकार से पूछते हुए कहा, ‘क्या उनकी सरकार का पीडब्ल्यूडी इस ‘विध्वंस अभियान’ का हिस्सा है? क्या जहांगीरपुरी के लोगों ने उन्हें इस तरह के विश्वासघात और कायरता के लिए वोट दिया था? उनका बार-बार यह कहना कि ‘पुलिस हमारे नियंत्रण में नहीं है’ यहां पर काम नहीं करेगा.’ ट्वीट के अंत में हालात पर निराशा जताते हुए ओवैसी ने कहा कि निराशाजनक स्थिति.

इससे पहले भी AIMIM के चीफ असदुद्दीन ओवैसी इस मामले पर निशाना साध चुके हैं. ओवैसी ने 18 अप्रैल को हिंसा को लेकर अपने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि आज दिल्ली पुलिस के कमिश्नर खुद यह कहा है कि जहांगीरपुरी में जो जुलूस निकाला गया वो बिना इजाजत के निकाला गया. जब जुलूस निकाला जा रहा था पुलिस उस समय क्या कर रही थी? पुलिस तमाशा देखने के लिए बैठी थी? और जुलूस में ऐसे हथियारों की क्या जरूरत थी.

सरकार जब चाहती है तब होती है हिंसाः असदुद्दीन ओवैसी

सरकार पर हमला करते हुए ओवैसी ने कहा कि सांप्रदायिक हिंसा उस वक्त ही होती है जब सरकार चाहती है, जब सरकार नहीं चाहती तब ऐसा कुछ नहीं होता. तो यहां पर भी सरकार ने सांप्रदायिक हिंसा होने दी. सरकार के सामने सब कुछ हो रहा है जिसकी पूरी जिम्मेदारी केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर आती है. उन्होंने आगे कहा कि दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल ने पूरा आरोप मुसलमानों पर जड़ दिया. उनको शर्म नहीं आती है, इस तरह के बयान देने में कि मुसलमानों की ओर से पत्थर फेंके गए. जब भी चुनाव आते हैं तब आप सबके वोट ले लेते हैं और जब ऐसे मामले सामने आते हैं तब आप अपना असली चेहरा दिखाते हैं.

जहांगीरपुरी हिंसा मामले में अब तक कुल 25 गिरफ्तारियां हो चुकी हैं. नॉर्थ आउटर दिल्ली के डीसीपी बृजेंद्र यादव ने बताया कि हथियार सप्लायर के साथ पुलिस की मुठभेड़ हुई जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया. उस पर पहले से ही 60 से अधिक केस दर्ज हैं. हिंसा के मामले मे कुल गिरफ्तार लोगों में से 5 आरोपियों पर दिल्ली पुलिस ने सख्त राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) लगा दिया है.

दिल्ली के जहांगीरपुरी इलाके में शनिवार को शोभायात्रा के दौरान दो समुदायों के बीच झड़प हुई थी जिसमें आठ पुलिसकर्मी और एक स्थानीय निवासी घायल हो गए थे. पुलिस के अनुसार, झड़पों के दौरान पथराव और आगजनी हुई और कुछ वाहनों को भी आग के हवाले कर दिया गया.

Similar Posts