Israel Palestine Conflict: तनाव के बीच फलस्तीनी क्षेत्रों में झंडा लहराते हुए मार्च करेंगे इजरायल के यहूदी, भड़क सकती है हिंसा

Jerusalem

इजरायल (Israel) के अति-राष्ट्रवादियों के एक समूह ने कहा कि वह बुधवार को यरुशलम के पुराने शहर के मुख्य रूप से फलस्तीनी क्षेत्रों में झंडा लहराते हुए मार्च के साथ आगे बढ़ेंगे. फिर भले ही पुलिस ने इस कार्यक्रम पर प्रतिबंध लगा रखा है. पिछले साल ऐसे ही कार्यक्रम से इजरायल-गाजा के बीच युद्ध (Israel Gaza War) भड़का था. जो 11 दिनों तक चला था. इजरायली पुलिस ने कहा कि यहूदियों, ईसाइयों और मुसलमानों के धार्मिक स्थलों के लिए यरुशलम (Jerusalem) के ऐतिहासिक पुराने शहर के आसपास बड़ी संख्या में अधिकारियों को तैनात किया गया था.

फलस्तीनी चरमपंथी समूहों ने यरुशलम में फ्लैग मार्च करने वाले इजरायली कट्टरपंथियों के खिलाफ चेतावनी दी है. पुलिस ने एक बयान में कहा, ‘इस स्तर पर पुलिस अनुरोधित कार्यक्रम के तहत विरोध मार्च को मंजूरी नहीं दे रही है.’ उनसे बुधवार को इस संबंध में टिप्पणी के लिए संपर्क नहीं किया जा सका कि क्या मार्च पूरी तरह से प्रतिबंधित होगा, या सिर्फ दमिश्क गेट के पास प्रस्तावित मार्ग पर उस पर रोक रहेगी. गौरतलब है कि गत मई में इसी तरह की स्थिति में, गाजा पट्टी में फलस्तीनी आतंकवादियों ने यरुशलम की ओर तब रॉकेट दागे थे, जब इजरायली राष्ट्रवादी फ्लैग मार्च करते हुए पुराने शहर में जा रहे थे.

पुलिस ने फलस्तीनियों को गिरफ्तार किया

इससे करीब तीन दिन पहले खबर आई थी कि इजरायली पुलिस ने यरुशलम के संवेदनशील धार्मिक स्थल अल-अक्सा मस्जिद परिसर में प्रवेश कर कम से कम दो फलस्तीनियों को गिरफ्तार कर लिया था. यहां पुलिस ने रविवार की सुबह मस्जिद के बाहर के क्षेत्र में मौजूद फलस्तीनियों को भी बाहर निकाल दिया था. हालांकि दर्जनों फलस्तीनी इमारत के अंदर ही रहे और नारे लगाने लगे. पुलिस ने कहा था कि उन्होंने धार्मिक स्थल पर यहूदियों की नियमित यात्रा को सुविधाजनक बनाने के लिए मस्जिद के परिसर में प्रवेश किया था.

फलस्तीनियों ने पत्थर जमा करके रखे

इसके साथ ही अधिकारियों ने ये भी दावा किया कि फलस्तीनियों ने हिंसा होने के अंदेशे से पत्थर जमा करके रखे थे. इन्होंने यहां अवरोधक भी लगा दिए थे. बता दें अल-अक्सा मस्जिद इस्लाम का तीसरा सबसे पवित्र स्थल है. इसके अलावा यह यहूदियों का सबसे पवित्र स्थल भी है. जिसे इस समुदाय के लोग टेंपल माउंट कहते हैं. अल-अक्सा मस्जिद वाली ये जगह लंबे वक्त से ही इजरायल और फलस्तीनी विवाद का केंद्र रही है. इस जगह पर उस वक्त झड़प हो गई थी, जब फलस्तीनियों ने यहूदी धर्म स्थल के पास स्थित वेस्टर्न वॉल की दिशा में पत्थर फेंके थे.

Similar Posts