IND VS ENG: टीम इंडिया से बाहर होने के बाद अचानक कैसे रनों की बरसात करने लगे चेतेश्वर पुजारा? Video में बताया राज

Cheteshwar Pujara Batting Comeback Reason England County Cricket Father Arvind Pujara

भारत के स्टार बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) ने कहा कि रणजी ट्रॉफी और काउंटी चैंपियनशिप में प्रथम श्रेणी क्रिकेट में खेलने से उन्हें अपनी फॉर्म और राष्ट्रीय टीम में वापसी करने में मदद मिली. 34 साल के पुजारा को इस साल के शुरू में श्रीलंका के खिलाफ भारत की घरेलू टेस्ट श्रृंखला के लिये टीम में नहीं चुना गया था. ससेक्स की तरफ से पांच मैचों में 120 की औसत से 720 रन बनाने के बाद उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें टेस्ट के लिये फिर से टेस्ट टीम में चुना गया. पुजारा ने रणजी ट्रॉफी में मुंबई के खिलाफ 83 गेंदों में 91 रनों की पारी खेली थी. उन्होंने दूसरी डिवीजन की काउंटी चैंपियनशिप में ससेक्स के लिये दो दोहरे शतकों सहित चार शतक लगाये.

डर्बीशर के खिलाफ मिली खोई लय

पुजारा ने बीसीसीआई टीवी से कहा, ‘मेरे लिये यह अधिक से अधिक प्रथम श्रेणी मैचों में खेलने से जुड़ा था. यह अनुभव महत्वपूर्ण था. जब आप फॉर्म में वापसी करना चाहते हैं, जब आप अपनी लय हासिल करना चाहते हैं, जब आपके पास वह एकाग्रता हो तो कुछ लंबी पारियां खेलना महत्वपूर्ण होता है.’ उन्होंने कहा, ‘इसलिए, जब मैं ससेक्स के लिये खेल रहा था तो ऐसा कर सकता था. जब मैंने डर्बीशर के खिलाफ अपनी पहली बड़ी पारी खेली तब मुझे लगा कि मैंने अपनी लय हासिल कर ली है. मेरी एकाग्रता और सब कुछ ठीक चल रहा था. मैंने ससेक्स के साथ बहुत अच्छा समय बिताया.’

रणजी ट्रॉफी से की फॉर्म में वापसी

पुजारा ने कहा कि उन्हें काउंटी मैचों में अच्छा प्रदर्शन करने का भरोसा था, क्योंकि वह पहले से ही रणजी ट्रॉफी में अच्छी फॉर्म में थे. उन्होंने कहा, ‘मैंने रणजी ट्रॉफी में सौराष्ट्र के लिये तीन मैच खेले. वहां भी मुझे लय हासिल करने में मदद मिली. मुझे पता था कि मैं अच्छी बल्लेबाजी कर रहा हूं.’ पुजारा के अलावा विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत तथा तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह और प्रसिद्ध कृष्णा चार दिवसीय अभ्यास मैच में लिस्टरशर की तरफ से खेलेंगे. भारत और इंग्लैंड के बीच पांचवां टेस्ट मैच एक जुलाई से बर्मिंघम एजबेस्टन में होगा.

Similar Posts