IND Vs AUS: ‘चौके’ से मुसीबत में रोहित शर्मा, ये टेंशन तो माथा खराब कर रही है!

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीन मैचों की टी20 सीरीज का आगाज 20 सितंबर से, रोहित शर्मा के सामने 4 समस्याएं खड़ी हैं, जिनका समाधान निकालना जरूरी.

IND VS AUS: रोहित शर्मा के सामने 4 टेंशन

Image Credit source: BCCI TWITTER

TV9 Bharatvarsh

TV9 Bharatvarsh | Edited By: अनूप देव सिंह

Sep 19, 2022 | 2:49 PM

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीन मैचों की टी20 सीरीज का आगाज मंगलवार से हो रहा है. पहला मुकाबला मोहाली के पीसीए स्टेडियम में खेला जाएगा. दोनों ही टीमें पहली जीत के लिए जमकर तैयारियां कर रही हैं. भारत और ऑस्ट्रेलिया दोनों के लिए ही ये सीरीज अहम है क्योंकि टी20 वर्ल्ड कप नजदीक है और दोनों टीमें अपनी हर समस्या का समाधान चाहती हैं. रोहित शर्मा की बात करें तो वो मुसीबतों के चौके से मुसीबत में फंसे हुए हैं. एशिया कप के बाद उन्हें चार ऐसी कमजोरियों पर काम करना है जो उसके लिए बड़ी टेंशन की तरह हैं. आगे जानिए क्या हैं वो?

  1. रोहित शर्मा की पहली टेंशन है विकेटकीपर का चयन. कप्तान साहब ऋषभ पंत पर काफी मेहरबान रहे हैं लेकिन ये विकेटकीपर बल्ले से नाकाम रहा है. एशिया कप में पंत का प्रदर्शन खराब रहा. वहीं पूरे एशिया कर में दिनेश कार्तिक को महज एक गेंद खेलने को मिली. अब सवाल ये है कि क्या रोहित शर्मा अपना विकेटकीपर बदलेंगे? क्या पंत की जगह कार्तिक को भरपूर मौका मिलेगा?
  2. रोहित शर्मा की दूसरी टेंशन है कि रवींद्र जडेजा की जगह दूसरा ऑलराउंडर कौन होगा? एशिया कप में रोहित शर्मा ने दीपक हुड्डा को प्लेइंग इलेवन में रखा लेकिन उन्हें गेंदबाजी नहीं कराई गई. जबकि टीम में अक्षर पटेल भी थे. अब प्लेइंग इलेवन में क्या अक्षर पटेल को ट्राई किया जाएगा? अक्षर पटेल गेंदबाजी के साथ-साथ अंतिम ओवरों में बड़े हिट भी लगा सकते हैं. इस समस्या का समाधान बहुत जरूरी है.
  3. तीसरी टेंशन-टीम इंडिया के कप्तान रोहित शर्मा ने बेखौफ बल्लेबाजी की रणनीति बनाई हुई है. लेकिन इसका खामियाजा टीम इंडिया को भुगतना पड़ रहा है. सभी बल्लेबाज तेजी से रन बनाने के फेर में अपना विकेट गंवाते रहते हैं. ऐसे में भारतीय टीम को अपनी रणनीति पर काम करने की जरूरत है.
  4. चौथी टेंशन- रोहित शर्मा का लगातार रन नहीं बना पाना भी टीम इंडिया के लिए एक बड़ी टेंशन है. रोहित शर्मा तेजी से रन बनाने के फेर में अपना विकेट गंवाते हैं. एशिया कप में भी कई मौकों पर ऐसा देखने को मिला. लेकिन रोहित को सेट होकर खेलने की जरूरत है. क्योंकि ये खिलाड़ी अगर रन बनाता है तो टीम की जीत के आसार ज्यादा रहते हैं. रोहित को मिडिल ऑर्डर की बजाए खुद जिम्मेदारी लेकर मैच जिताना होगा. हालांकि रोहित ऐसा नहीं कर पा रहे हैं.

आज की बड़ी खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published.