IKEA कर्नाटक में करेगी 3000 करोड़ रुपये का निवेश, राज्य में खुला भारत का सबसे बड़ा स्टोर

Ikea

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने बुधवार को कहा कि फर्नीचर और साज-सज्जा के सामान बनाने वाली स्वीडन की प्रमुख कपंनी आइकिया (IKEA) ने राज्य में करीब 3,000 करोड़ रुपये का निवेश करने का फैसला किया है. मुख्यमंत्री ने यहां नागासंद्रा में भारत में आइकिया के सबसे बड़े स्टोर (Largest IKEA store in India) का उद्घाटन किया. यह देश में उसका चौथा स्टोर है. बोम्मई ने कहा ने जानकारी दी कि कंपनी ने करीब 3,000 करोड़ रुपये निवेश करने का फैसला किया है. मुख्यमंत्री ने विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) की बैठक में भाग लेने के लिए स्विट्जरलैंड के दावोस की अपनी हालिया यात्रा के दौरान आइकिया के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) के साथ इस संबंध में शुरुआती बातचीत की थी.

IKEA 75 प्रतिशत नौकरियां स्थानीय लोगों को देगी

कंपनी ने मंगलवार को कहा था कि कर्नाटक में 3,000 करोड़ रुपये के नियोजित निवेश के साथ आइकिया इस साल बेंगलुरु स्टोर में करीब 50 लाख विजिटर्स को आकर्षित करने की उम्मीद कर रहा है. बोम्मई ने कहा कि स्थानीय लोगों को यहां आइकिया स्टोर में अधिकतम रोजगार के अवसर मिलेंगे. इसके साथ ही कंपनी ने स्थानीय लोगों के लिए 75 प्रतिशत नौकरियों का आश्वासन दिया है. कंपनी के अनुसार, आइकिया ने बेंगलुरु स्टोर में 72 प्रतिशत स्थानीय लोगों के साथ करीब 1,000 कर्मचारियों को रखा है. इसकी स्थानीय स्तर पर अन्य लोगों को भी काम पर रखने की योजना है. मुख्यमंत्री ने कहा कि आइकिया स्टोर के शुभारंभ से स्थानीय कारीगरों, बढ़ई, फर्नीचर डिजाइनरों और अन्य संबंधित व्यवसायों में लगे लोगों के लिए अधिक अवसर सृजित होंगे. उन्होंने आगे कहा, ‘मैंने उनसे नौकरी के अवसरों को और बढ़ाने का अनुरोध किया है. प्रत्येक स्टोर लगभग 1,000 लोगों को रोजगार देता है. मैंने उन्हें बेंगलुरु में और अधिक स्टोर खोलने के लिए कहा है, क्योंकि शहर में और अधिक की क्षमता है.

बैंग्लुरू में खुला देश का सबसे बड़ा स्टोर

बैंग्लुरू का स्टोर देश में आइकिया का चौथा और सबसे बड़ा स्टोर है. ये स्टोर 12.2 एकड़ में फैला है और इसका आकार 4.6 लाख वर्ग फुट है. इस स्टोर में होम फर्निशिंग से जुड़े कई उत्पाद उपलब्ध होंगे. आइकिया की योजना नोएडा में भी अपना स्टोर खोलने की है. आइकिया ने नोएडा में 5500 करोड़ रुपये निवेश का वादा किया है. नोएडा प्राधिकरण ने कंपनी को जमीन भी उपलब्ध कराई है.

Similar Posts