Gujarat Election : सूरत की सीटों पर आम आदमी पार्टी हुई मजबूत, पूर्वी सीट पर बीजेपी जीत की हैट्रिक के लिए तैयार

Surat (gujrat)

गुजरात विधानसभा चुनाव साल 2022 के अंत में होने हैं. गुजरात और हिमाचल भाजपा शासित राज्य हैं. गुजरात में तो पिछले 27 सालों से भाजपा सत्ता पर काबिज है. वहीं इस साल होने वाले गुजरात के चुनाव को देखते हुए भाजपा ,कांग्रेस सहित आम आदमी पार्टी और ओवैसी की पार्टी ने भी अपनी चुनावी तैयारियां शुरू कर दी हैं. गुजरात भाजपा के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह का गृह राज्य है. इस वजह से गुजरात का विधानसभा चुनाव और भी ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाता है. बीजेपी अपने मजबूत गढ़ मजबूत करने के लिए प्रयासरत है. ऐसे में भाजपा के लिए सूरत जिले की विधानसभा सीटें और भी ज्यादा महत्वपूर्ण हो गई हैं. पिछले दो चुनावों से सूरत में भाजपा के प्रत्याशी की ही जीत हुई है. इस बार भाजपा हैट्रिक लगाने की तैयारी में है. हालांकि सूरत में धीरे-धीरे आम आदमी पार्टी भी अपनी जड़े फैला रही है. नगर निकाय चुनाव में आम आदमी पार्टी ने 27 पार्षदों को इस क्षेत्र से जीत मिली थी. आम आदमी पार्टी को सूरत में इससे मजबूती मिली है वहीं बीजेपी के लिए चिंता की बात है।

सूरत पूर्व विधानसभा का राजनीतिक समीकरण

सूरत लोकसभा के अंतर्गत कुल 4 विधानसभा सीटें आती हैं. जिनमें पूर्व के सीट पर भाजपा के विधायक अरविंद भाई राणा है. इस सीट पर उन्होंने कांग्रेस के प्रत्याशी नितिन भाई भरुचा को हराया था. सूरत पूर्व विधानसभा सीट पर 2012 में बीजेपी प्रत्याशी रणजीत भाई गिलितवाला विधायक चुने गए .वह गुजरात सरकार में मंत्री भी रहे हैं और वर्तमान विधायक अरविंद भाई राणा के भाई हैं. कुल मिलाकर कहा जाए तो सूरत पूर्व की सीट पर दो बार से राणा परिवार के कब्जे में है. 2022 में इस सीट पर बीजेपी की दावेदारी मजबूत है लेकिन इस बार आम आदमी पार्टी से कड़ी टक्कर मिलने की संभावना भी है।

सूरत पूर्व विधानसभा सीट 2008 में परिसीमन के बाद निकली है. इस सीट पर 2012, 2017 में भाजपा ने जीत दर्ज की है. वर्तमान में भाजपा के अरविंद भाई राणा सूरत पूर्व सीट से विधायक हैं. अरविंद भाई ज्यादा पढ़े लिखे नहीं हैं .वह केवल 12वीं पास है. जबकि उनका प्रिंटिंग प्रेस का कारोबार है.

सूरत पूर्व सीट का सामाजिक समीकरण

सूरत लोकसभा के अंतर्गत आने वाली पूर्व विधानसभा सीट पर सबसे ज्यादा मुस्लिम मतदाता है. जबकि यहां पर राणा समाज की संख्या सबसे ज्यादा ज्यादा है. इस विधानसभा क्षेत्र में कुल मतदाताओं की संख्या 215722 है जिनमें से 109250 पुरुष है, जबकि 106459 महिलाएं हैं. इन मतदाताओं में 77000 से ज्यादा मुस्लिम मतदाता हैं जबकि 35000 के करीब राणा समाज की संख्या है .इसके बाद खत्री, घांची और ब्राह्मण समाज के मतदाता बड़ी संख्या में रहते है ।

Similar Posts