Ganesh Acharya Bail : यौन उत्पीड़न के मामले में कोरियोग्राफर गणेश आचार्य को कोर्ट से मिली जमानत, महिला डांसर ने लगाए थे गंभीर आरोप

Ganesh Acharya

Ganesh Acharya Bail : बॉलीवुड के जाने-माने कोरियोग्राफर गणेश आचार्य को यौन उत्पीड़न के मामले में जमानत मिल गई है. मुंबई की एक मजिस्ट्रेट अदालत ने गणेश आचार्य को जमानत दी. बता दें कि कोरियोग्राफर गणेश आचार्य (Choreographer Ganesh Acharya) पर एक महिला डांसर ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था. जिसके बाद पुलिस ने गणेश आचार्य के खिलाफ एक चार्जशीट यानी आरोप पत्र दायर किया था. बीते दिन गुरूवार 23 जून को गणेश आचार्य अदालत के समक्ष पेश हुए.गणेश आचार्य पर लगे आरोपों की सुनवाई करते हुए अदालत ने उन्हेंजमानत दे दी है. आपको बता दें कि यह मामला दो साल पुराना है.

कभी नहीं गिरफ्तार हुए गणेश आचार्य

गौर हो कि इसी साल अप्रैल में मुंबई पुलिस ने गणेश आचार्य पर अन्य आरोपों के साथ यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था. इस मामले में गणेश आचार्य को कभी गिरफ्तार नहीं किया गया है. गुरुवार 23 जून को मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश होने के बाद उन्हें जमानत दे दी गई.

महिला डांसर ने गणेय पर लगाया था आरोप

गौरतलब है कि गणेश आचार्य पर महिला डांसर ने साल 2020 की फरवरी में यौन उत्पीड़न मामले का केस दर्ज करवाया था. महिला डांसर ने कोरियोग्राफर गणेस आचार्यपर आरोप लगाते हुए कहा था कि साल 2009-10 में जब वो गणेश आचार्य के ऑफिस में काम करने के लिए जाती थी, तो उसे अभद्र टिप्पणियां करने के साथ ही अश्लील वीडियो भी देखने के के लिए मजबूर किया गया. महिला ने आगे यह भी बताया कि जब उन्होंने इसका विरोध किया तो उन्हें परेशान करना शुरू कर दिया गया.

यही नहीं, महिला ने यह भी आरोप लगाया कि इसी वजह से 6 महीने के बाद ही भारतीय फिल्म और टेलीविजन कोरियोग्राफर एसोसिएशन ने उसकी सदस्यता भी खत्म कर दी. महिला ने ये भी आरोप लगाया कि गणेश आचार्य ने अन्य महिलाओं का भी यौन शोषण किया है.

गणेश आचार्य पर मारपीट का भी लगाया था आरोप

शिकायतकर्ता महिला ने गणेस आचार्य पर मारपीट का आरोप भी लगाया था. महिलाने आरोप लगाया था कि 26 जनवरी, 2020 वाले दिन अंधेरी में इंडियन फिल्म एंड टेलीविजन कोरियोग्राफर्स एसोसिएशन के एक समारोह के दौरान उसने दो अन्य लोगों के साथ मिलकर उसके साथ मारपीट भी की थी.

कोरियोग्राफर असिस्टेंट के तौर पर शुरू किया था करियर

51 साल के गणेश आचार्य ने 90 के दशक की शुरुआत में कोरियोग्राफर कमलजी के असिस्टेंट के रूप में शुरू किया था. उन्होंने साल 1992 में अपनी पहली फिल्म अनाम में काम किया. लेकिन 2001 में फिल्म लज्जा के गाने बड़ी मुश्किल को कोरियोग्राफ करने के बाद उन्हें फेम मिला.

Similar Posts