EV में आग के मामलों पर समिति इसी महीने देगी रिपोर्ट, वहीं टाटा Nexon मामले में सरकार ने जांच के दिए आदेश

Tata Motors Ev

बिजली से चलने वाले दोपहिया वाहनों में आग लगने के मामलों की जांच और इससे बचाव के उपाय सुझाने के लिए गठित विशेषज्ञ समिति इस महीने अपनी रिपोर्ट सौंप सकती है. सड़क परिवहन मंत्रालय के एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी. हाल ही में, इलेक्ट्रिक वाहनों (electric vehicle) में आग लगने की कई घटनाएं हुई है, जिसमें कुछ लोगों की मौत हुई और कुछ लोग गंभीर रूप से घायल हुए. अधिकारी ने पीटीआई-भाषा से बातचीत में कहा, ‘विशेषज्ञ समिति इस महीने (बैटरी मानकों और प्रमाणन पर गठित) अपनी रिपोर्ट सौंप सकती है. वहीं टाटा नेक्सन (Nexon EV) में आग लगने के मामले में सरकार ने स्वतंत्र जांच के आदेश दिए हैं.

ईवी में आग के मामलों पर सरकार काफी गंभीर है. सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने हाल ही में कहा था कि लापरवाही बरतने वाली कंपनियों को दंडित किया जाएगा और विशेषज्ञ समिति के रिपोर्ट सौंपे जाने के बाद सभी खराब वाहनों को वापस बुलाने का आदेश दिया जाएगा. पुणे में अप्रैल माह में ओला के ई-स्कूटर में आग लगने की घटना के बाद सरकार ने जांच के आदेश दिए थे. वहीं सरकार की जांच के साथ टाटा मोटर्स ने भी नेक्सन में आग लगने के मामले की जांच शुरू कर दी है. इलेक्ट्रिक वाहनों में अब तक दोपहिया वाहनों में ही आग लगने के मामले सामने आए थे. लेकिन पहली बार बड़े व्हीकल में आग लगने का मामला आया है.

टाटा मोटर्स ने शुरू की जांच

वाहन विनिर्माता टाटा मोटर्स ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह हाल ही में मुंबई में एक नेक्सन इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) में आग लगने की घटना की जांच कर रही है. टाटा मोटर्स ने एक बयान में कहा, ‘हम, हाल ही में वाहन में आग लगने से संबंधित घटना के तथ्यों का पता लगाने के लिए गहराई से जांच कर रहे हैं. हम अपनी कार्रवाई पूरी होने के बाद ही इस संबंध में विस्तृत जानकारी साझा करेंगे. इलेक्ट्रिक वाहन में आग लगने की घटना को सोशल मीडिया मंच पर व्यापक रूप से साझा किये जाने के बीच कंपनी ने यह बयान जारी किया है. कंपनी ने कहा कि वह अपने वाहनों और ग्राहकों की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध हैं. वाहन विनिर्माता ने कहा, लगभग चार साल में यह पहली घटना है. इस दौरान अब तक 30,000 से अधिक इलेक्ट्रिक वाहनों ने पूरे देश में संयुक्त रूप से 10 करोड़ किलोमीटर से अधिक की दूरी तय की है।

इलेक्ट्रिक व्हीकल में आग पर सरकार गंभीर

ईवी में आग लगने के मामलों पर सरकार काफी गंभीर है. इसी वजह से दोपहिया वाहनों में ऐसे मामले सामने आने के साथ सरकार ने समिति का गठन किया है. जो कि न केवल कारणों की तलाश करेगी साथ ही सुरक्षित यात्रा के लिए कंपनियों को सलाह भी जारी करेगी. दोपहिया इलेक्ट्रिक वाहनों में बीते कुछ दिनों में आग लगने की कई घटनाएं सामने आई है. ओला इलेक्ट्रिक, ओकिनावा ऑटोटेक और प्योर ईवी जैसे कई इलेक्ट्रिक दोपहिया विनिर्माताओं ने इन घटनाओं के चलते अपने बिचली चालित वाहनों को वापस मंगाया है. सरकार आने वाले समय में इलेक्ट्रिक व्हीकल की संख्या बढ़ाने पर फोकस कर रही है जिससे तेल पर निर्भरता कम की जा सके.

Similar Posts