Delhi Fire: दिल्ली के रोहिणी में इमारत में आग लगने से एक व्यक्ति की मौत, दमकल की 10 गाड़ियों ने आग पर पाया काबू

Jhansi Fire

दिल्ली के रोहिणी इलाके में गुरुवार शाम एक इमारत में आग लगने की घटना सामने आई (Delhi Rohini Fire). हादसे में एक व्यक्ति की मौत हो गई, जबकि करीब सात लोगों को बचा लिया गया. दमकल (Delhi Fire Brigade) की 10 गाड़ियों ने मौके पर पहुंचकर आग पर काबू पाया. दमकल विभाग के अधिकारियों ने कहा कि उन्हें सेक्टर 5, पूठ कलां स्थित एक इमारत में आग लगने की सूचना शाम 4.55 बजे मिली. उन्होंने बताया कि इस इमारत में भूतल के अलावा और दो मंजिलें थीं. उन्होंने बताया कि दमकल की दस गाड़ियां मौके पर पहुंची और कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया गया है.

घटना में जिन लोगों को रेस्क्यू किया गया उन्हें अंबेडकर हॉस्पिटल ले जाया गया है. हालांकि अब तक इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है कि आग किन वजहों से लगी है. बता दें कि दिल्ली में पिछले कुछ दिनों में आग की कई घटनाएं सामने आई हैं. दिल्ली के दक्षिण-पश्चिम इलाके के बिंदापुर में स्थित एक फर्नीचर फैक्टरी में शनिवार 18 जून की सुबह आग लग गयी. दमकल अधिकारी के अनुसार, उन्हें सुबह चार बज कर पांच मिनट पर आग लगने की सूचना मिली और आठ दमकल गाड़ियों को मौके पर भेजा गया. उन्होंने बताया कि सुबह 6.55 बजे आग पर काबू पा लिया गया और 8.50 बजे इसे पूरी तरह बुझा दिया गया. हालांकि इस हादसे में कोई भी हताहत नहीं हुआ था.

लाजपत नगर बाजार स्थित एक इमारत के बेसमेंट में लगी आग

इससे पहले दक्षिण पूर्वी दिल्ली के लाजपत नगर बाजार स्थित एक इमारत के बेसमेंट में बुधवार 8 जून को आग लग गई थी. अधिकारियों ने बताया कि आग लगने की शुरुआत इलेक्ट्रिकल पैनल से हुई. जिसके बाद आग बुझाने के लिए 10 दमकल गाड़ियों को मौके पर भेजा गया था. इमारत के बेसमेंट और अन्य तलों से सभी लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया था.

लैंडफिल साइट पर आग की कई घटनाएं आईं सामने

इधर उत्तरी दिल्ली में स्थित भलस्वा लैंडफिल साइट पर शुक्रवार 3 जून को दोपहर को आग लग गई थी. दमकल विभाग के अधिकारियों ने बताया कि उन्हें अपराह्न 1:52 बजे आग लगने की सूचना मिली और तत्काल पांच दमकल गाड़ियों को मौके पर रवाना किया गया था. इससे पहले 26 अप्रैल को भी भलस्वा लैंडफिल स्थल में आग लग गयी थी. इस साल पूर्वी दिल्ली में स्थित गाजीपुर लैंडफिल साइट में पांच बार आग लगने की घटना हुई है. 28 मार्च को वहां लगी आग पर काबू पाने में 50 घंटे से भी ज्यादा का वक्त लग गया था.

Similar Posts