Delhi Capitals में 6 दिन में 6 कोरोना केस कैसे आ गए, टीम डॉक्टर की डिनर पार्टी से बिगड़ा मामला?

Delhi Capitals Ipl 2022 (1)

दिल्ली कैपिटल्स और पंजाब किंग्स (Delhi Capitals vs Punjab Kings) के बीच 20 अप्रैल को आईपीएल 2022 के मैच से पहले दिल्ली की टीम में छठा कोविड-19 मामला आने के बाद इस पर अनिश्चितता के बादल छा गये थे. बीसीसीआई (BCCI) ने बताया था कि दिल्ली के कैंप में छठा कोविड-19 मामला आने के बावजूद मैच आयोजित किया जाएगा. न्यूजीलैंड के विकेटकीपर बल्लेबाज टिम साइफर्ट (Tim Seifert Covid-19) के भी कोविड-19 पॉजिटिव पाये जाने के बाद मैच के आयोजन पर संशय बन गया था. लेकिन दिल्ली की टीम के बाकी सदस्यों के मैच से पहले जांच में दो बार नेगेटिव आने के बाद यह संशय खत्म हो गया. लेकिन टीम में कोरोना के छह मामले आने के बाद बायो बबल को लेकर सवाल उठ रहे हैं. पूछा जा रहा है कि गड़बड़ कहां हुई. इस टीम में छह दिन में कोरोना के छह केस आएं हैं.

बीसीसीआई (भारतीय क्रिकेट बोर्ड) ने एक बयान में कहा था, दिल्ली कैपिटल्स के पूरे दल का आज दो बार कोविड-19 परीक्षण कराया गया. दिल्ली कैपिटल्स और पंजाब किंग्स के बीच आज ब्रेबॉर्न-सीसीआई में 32वां मैच कार्यक्रम के अनुसार ही खेला जायेगा क्योंकि आज दूसरे दौर की कोविड-19 जांच नेगेटिव आयी है. टीम के डॉक्टर अभिजीत साल्वी के ईस्टर डिनर को लेकर काफी चर्चा हो रही है कि इसी के दौरान बायो-बबल का उल्लघंन हुआ. टीम इंडिया के पूर्व चिकित्सा अधिकारी साल्वी सवालों के घेरे में हैं.

श्रीलंका दौरे पर जब मिले थे कोरोना केस तब भी साल्वी थे डॉक्टर

साल्वी श्रीलंका में भारतीय टीम के डॉक्टर थे जब टीम में कोविड-19 संक्रमण फैला था और सात भारतीय खिलाड़ी इसके कारण बाहर हो गये थे. तब प्रोटोकॉल अलग थे और जिन खिलाड़ियों को मैच में नहीं खिलाया गया था, उनमें से ज्यादातर करीबी संपर्क थे. यह भी पूछा जा रहा है कि काफी विदेशी खिलाड़ी ईस्टर के जश्न में टीम डिनर में क्यों शामिल थे जबकि दिल्ली के फिजियो पैट्रिक फरहार्ट पॉजिटिव थे. सवाल ये भी पूछे जा रहे हैं कि साल्वी ने बतौर टीम डॉक्टर कड़े प्रोटोकॉल सुनिश्चित क्यों नहीं किये.

साइफर्ट से पहले मार्श हुए पॉजिटिव

दिल्ली कैपिटल्स की टीम का दूसरा विदेशी खिलाड़ी कोविड-19 पॉजिटिव पाया गया है. साइफर्ट से पहले ऑस्ट्रेलियाई ऑल राउंडर मिचेल मार्श कोरोना संक्रमित हुए थे जिससे उनकी टीम में कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या छह हो गई है. आईपीएल के नियमों के अनुसार दल में कोविड-19 संक्रमण होने की स्थिति में मैच आयोजित करने के लिये कम से कम 12 खिलाड़ियों की जरूरत होती है जिसमें से सात भारतीय हों. अगर न्यूनतम खिलाड़ी उपलब्ध नहीं हो सकते तो मैच को बाद में आयोजित करने का विकल्प भी है.

बीसीसीआई को मंगलवार को दिल्ली कैपिटल्स की टीम में कोविड-19 के मामले सामने आने के बाद मैच पुणे से मुंबई में कराने के लिये बाध्य होना पड़ा था ताकि बस के अंदर बंद माहौल में लंबी यात्रा के दौरान किसी भी अज्ञात मामले (जो जांच में पॉजिटिव नहीं आया हो) के कारण अन्य खिलाड़ियों के संक्रमित होने से बचा जा सके.

दिल्ली का अगला मैच भी शिफ्ट

दिल्ली कैपिटल्स का अगला मैच 22 अप्रैल को है जिसे भी पुणे से मुंबई में शिफ्ट किया जा चुका है. बीसीसीआई बयान के अनुसार, बीसीसीआई ने बुधवार को दिल्ली कैपिटल्स और राजस्थान रॉयल्स के बीच 22 अप्रैल 2022 को पुणे के एमसीए स्टेडियम में होने वाले मैच को मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में कराने की घोषणा की है. यह ऐहतियाती उठाया गया कदम है क्योंकि दिल्ली कैपिटल्स में छठा कोविड-19 मामला सामने आया है, जिसके न्यूजीलैंड के विकेटकीपर टिम साइफर्ट आज की आरटी-पीसीआर जांच में पॉजिटिव आये हैं.

दिल्ली के फिजियो पैट्रिक फरहार्ट और मसाज थेरेपिस्ट चेतन कुमार पिछले हफ्ते कोविड-19 पॉजिटिव आये थे जबकि मार्श, डाक्टर अभिजीत साल्वी और सोशल मीडिया कंटेट टीम सदस्य आकाश माने सोमवार को पॉजिटिव आये थे. मार्श को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा.

Similar Posts