CUET-UG Exam: 54,000 से ज्यादा सब्जेक्ट्स के कॉम्बिनेशन वाला होगा सीयूईटी एंट्रेंस एग्जाम, बनेगा देश का सबसे लंबा टेस्ट

Cuet Ug 2022 Exam

CUET-UG Exam 2022: कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट-अंडरग्रेजुएट (CUET-UG) में हिस्सा लेने वाले स्टूडेंट्स को नौ पेपरों में हिस्सा लेने की इजाजत दी गई है. इसकी वजह से 54,000 से अधिक सब्जेक्ट्स का कॉम्बिनेशन बन गया है. इन दोनों की वजहों से 15 जुलाई से 10 अगस्त तक होने वाला CUET सबसे लंबा एंट्रेंस एग्जाम बन जाएगा. CUET के पहले एडिशन में 11 लाख स्टूडेंट्स ने रजिस्ट्रेशन करवाया है. वहीं, नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ने भी स्टूडेंट्स को बड़ी सहूलियत देते हुए 23-24 जून के दौरान दो दिनों के लिए रजिस्ट्रेशन और करेक्शन विंडो ओपन किया है.

बुधवार को जारी किए गए नोटिफिकेशन के मुताबिक, कुल मिलाकर CUET-UG एग्जाम 10 दिन लिया जाएगा, जिसकी शुरुआत 15 जुलाई से होगी. दरअसल, 17 जुलाई को NEET-UG और फिर 21 जुलाई से 3 अगस्त के बीच JEE (Main) एग्जाम होने वाले हैं. इसके चलते CUET एग्जाम नहीं होंगे. हालांकि, इन तारीखों के इतर बाकी दिन CUET-UG के एंट्रेंस टेस्ट करवाए जाएंगे. इन सभी नेशनल लेवल के एंट्रेंस एग्जाम का आयोजन NTA द्वारा किया जाता है. भारत के 554 शहरों और दुनिया के 13 शहरों में टेस्ट करवाए जाएंगे.

CUET-UG Registration विंडो क्यों ओपन की गई?

NTA के महानिदेशक विनीत जोशी ने कहा, ‘एग्जाम का आयोजन सिर्फ एक बार किया जा रहा है. हम जानते हैं कि सेंट्रल यूनिवर्सिटीज में एडमिशन के लिए ये एकमात्र रास्ता है. इस वजह से रजिस्ट्रेशन के साथ-साथ करेक्शन विंडो को 24 जुलाई तक फिर से ओपन किया गया है. ऐसे में जो लोग रजिस्ट्रेशन से चूक गए हैं या फिर पेमेंट करने से रह गए हैं, वे ऐसा कर सकें.’ उन्होंने कहा, ‘NTA को उम्मीदवारों की तरफ से इस बाबत कई सारे अनुरोध मिले थे.’

कितनी यूनिवर्टीज में दिया जाएगा एडमिशन?

दरअसल, यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमीशन ने मार्च में ऐलान किया था कि 45 सेंट्रल यूनिवर्सिटीज में एंट्रेंस के लिए CUET-UG स्कोर के जरिए एडमिशन दिया जाएगा. CUET स्कोर के आधार पर कुल 44 सेंट्रल यूनिवर्सिटीज, 12 स्टेट यूनिवर्सिटीज, 11 डीम्ड यूनिवर्सिटीज और 19 प्राइवेट यूनिवर्सिटीज 2022-23 अकेडमिक सेशन में ग्रेजुएशन में एडमिशन दे रही हैं. एग्जाम कंप्यूटर-बेस्ड टेस्ट (CBT) मोड में आयोजित की जाएगी. CUET-UG एग्जाम 13 भाषाओं में आयोजित किया जाएगा. इसमें तमिल, तेलुगु, कन्नड़, मलयालम, मराठी, गुजराती, उड़िया, बंगाली, असमिया, पंजाबी, अंग्रेजी, हिंदी और उर्दू शामिल हैं.

Similar Posts