BRICS Summit 2022: ‘दोनों देशों को एक-दूसरे को कमजोर करने के बजाय समर्थन करना चाहिए’, बीजिंग में भारतीय राजदूत से बोले चीन के विदेशी मंत्री

India China

चीन में भारतीय राजदूत प्रदीप कुमार रावत ने राष्ट्रपति शी चिनफिंग की मेजबानी में आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से होने वाले ब्रिक्स सम्मेलन (BRICS Summit 2022) से पहले चीनी विदेश मंत्री वांग यी से मुलाकात की. इस सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) भी हिस्सा लेंगे. मार्च में चीन में भारत के नए राजदूत के रूप में पदभार संभालने के बाद रावत की वांग के साथ यह पहली मुलाकात है. बुधवार को रावत और वांग के बीच हुई मुलाकात इसलिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह 14वें ब्रिक्स सम्मलेन से पहले हुई है. इसके अलावा यह मुलाकात इसलिए भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह दो साल पहले लद्दाख में पैदा हुए सैन्य गतिरोध के चलते द्विपक्षीय संबंधों में आई खटास के बीच हुई है.

सैन्य स्तर की वार्ता के परिणामस्वरूप दोनों पक्षों ने पिछले साल पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी किनारे और गोगरा क्षेत्र में सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया पूरी की थी. भारत लगातार यह मानता रहा है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर शांति और स्थिरता द्विपक्षीय संबंधों में समग्र प्रगति के लिए महत्वपूर्ण है. मुलाकात को लेकर चीनी विदेश मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में वांग के हवाले से कहा गया है, ‘चीन और भारत के साझा हित उनके मतभेदों से कहीं अधिक महत्वपूर्ण हैं.’

‘एक-दूसरे पर संदेह करने के बजाय आपसी विश्वास को बढ़ाना चाहिए’

उन्होंने कहा, ‘दोनों पक्षों को एक-दूसरे को कमजोर करने के बजाय समर्थन करना चाहिए, एक-दूसरे के खिलाफ रक्षा क्षमता के बजाय सहयोग को मजबूत करना चाहिए और एक-दूसरे पर संदेह करने के बजाय आपसी विश्वास को बढ़ाना चाहिए.’ चीनी विदेश मंत्री ने कहा, ‘दोनों पक्षों को द्विपक्षीय संबंधों को जल्द से जल्द स्थिर करने और पटरी पर लाने के लिए एक-दूसरे से संवाद करना चाहिए.’

मार्च में भारत दौरे पर आए थे चीनी के विदेश मंत्री

उनके मुताबिक, ‘संयुक्त रूप से विभिन्न वैश्विक चुनौतियों का समाधान करना चाहिए और चीन व भारत तथा विभिन्न विकासशील देशों के सामान्य हितों की रक्षा करनी चाहिए.’ बीजिंग इस साल ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका के पांच सदस्यीय समूह ब्रिक्स के सम्मेलन की अध्यक्षता कर रहा है. बुधवार को शी जिनपिंग और पीएम मोदी ने ब्रिक्स देशों के अन्य प्रमुखों के साथ ब्रिक्स व्यापार मंच को संबोधित किया था. वांग ने मार्च में भारत का दौरा किया था. उस दौरान उन्होंने विदेश मंत्री एस जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के साथ वार्ता की थी.

Similar Posts