BPSC टॉपर होकर भी DSP नहीं बन पाए सुधीर, अधूरा रह गया सपना, जानिए क्यों?

Bpsc Topper Sudhir

बिहार पब्लिक सर्विस कमीशन की ओर से 66वीं कंबाइंड परीक्षा का फाइनल रिजल्ट अगस्त महीने में जारी किया गया. यह परीक्षा कुल 689 पदों पर भर्ती के लिए आयोजित की गई थी. BPSC की ओर से फाइनल रिजल्ट जारी होने के बाद 685 उम्मीदवारों का चयन हुआ. इस परीक्षा में वैशाली के सुधीर कुमार ने टॉप किया. लेकिन टॉपर होने के बाद भी सुधीर को DSP का पोस्ट नहीं मिल पाया. सुधीर को स्टेट टैक्स ऑफिसर के पद पर चुना गया है. उन्हें डीएसपी का पोस्ट नहीं मिल पाया इसके पीछे बड़ी वजह है.

बता दें कि बीपीएससी 66वीं परीक्षा में इंटरव्यू के लिए 1838 उम्मीदवारों को बुलाया गया था. इनमें से 685 उम्मीदवारों को सेलेक्ट किया गया. सुधीर कुमार को पूरे राज्य में पहला स्थान प्राप्त हुआ. IIT Kanpur से सिविल इंजीनियर रह चुके सुधीर पहली बार में BPSC परीक्षा में टॉपर बने हैं. टॉपर होने के बावजुद उन्हें राज्य में DSP का पोस्ट नहीं मिल पाया.

BPSC Topper को क्यों नहीं मिला DSP पोस्ट

बीपीएससी 66वीं परीक्षा में टॉप करने वाले सुधीर कुमार को टॉपर होने के बावजुद राज्य में स्टेट टैक्स ऑफिसर के पद पर काम करना होगा. दरअसल, सुधीर डीएसपी के पद के लिए PET यानी शारीरिक दक्षता परीक्षण के अंतर्गत नहीं आते हैं. डीएसपी पद के लिए शारीरिक योग्यता के अनुसार, छाती की चौंड़ाई कम से कम 84 सेमी होनी चाहिए. सुधीर शारीरिक योग्यता में फिट नहीं आते थे. यही वजह है कि उन्हें DSP का पोस्ट नहीं मिला.

रिजल्ट जारी होने के बाद टॉपर सुधीर ने मीडिया से बताया था कि वो DSP बनना चाहते थे. उनका टॉपर बनने का सफर काफी उतार-चढ़ाव भरा रहा है. मिडिल क्लास परिवार से आने वाले सुधीर अब बतौर स्टेट टैक्स ऑफिसर काम करेंगे.

IITian हैं सुधीर कुमार

बीपीएससी 66वीं परीक्षा में टॉप करने वाले सुधीर IIT Kanpur के छात्र रह चुके हैं. इंजीनियरिंग के बाद UPSC Civil Service की तैयारी के लिए दिल्ली चले गए. लॉकडाउन में उन्होंने बच्चों को पढ़ाने का काम किया. वो 11वीं और 12वीं के छात्रों को पढ़ाते थे. इसके साथ ही IIT JEE की भी तैयारी करवाते थे.

सुधीर वैशाली के महुआ के रहने वाले हैं. उनके पिता पोस्ट ऑफिस में काम करते हैं. उनकी मां राजापाकड़ में ANM हैं. सुधीर ने बिहार बोर्ड से 10वीं और 12वीं की परीक्षा पास की. इसके बाद JEE क्वॉलिफाई करके IIT कानपुर में दाखिला लिया. सुधीर कहते हैं कि BPSC जैसी परीक्षा क्रैक करने के लिए सिर्फ जनरल नॉलेज की किताबों से काम नहीं चलने वाला है. इसके लिए NCERT की किताबों से तैयारी करनी चाहिए. करियर की खबरें यहां देखें.