BJP में जाने वालों को अपनी कार से भेजूंगा, बागी कांग्रेसियों को कमलनाथ का ऑफर

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि मैं किसी की खुशामद में विश्वास नहीं करता. उन्होंने कहा कि जो लोग कांग्रेस में काम कर रहे हैं, वे पार्टी के प्रति निष्ठा से काम कर रहे हैं और पार्टी की ओर से उन पर कोई दबाव नहीं है.

दबाव-प्रभाव की राजनीति कर रही बीजेपी.

Image Credit source: ANI

देश के विभिन्न भागों में नेताओं के कांग्रेस छोड़ कर भाजपा में शामिल होने की खबरों के बारे में पूछे जाने पर मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा कि कांग्रेस छोड़ कर भाजपा में जाने वालों को वह अपनी कार में भिजवाएंगे क्योंकि उन्हें खुशामद में विश्वास नहीं है. कमलनाथ ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि आज हमारे लोगों पर झूठे मामले लगाए जा रहे हैं. दबाव-प्रभाव की राजनीति की जा रही है. दबाव से आप किसी का भी दिल, दिमाग और आत्मा नहीं खरीद सकते हैं.

कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल होने वाले पार्टी नेताओं एवं पदाधिकारियों के बारे में पूछे गये एक सवाल के जवाब में कमलनाथ ने मीडिया से कहा, आप क्या समझ रहे हैं कि कांग्रेस खत्म हो गई. अभी तो पूछ रहे थे कि कोई लोग (कांग्रेस छोड़ भाजपा में) जाना चाह रहे हैं. मैंने तो कहा कि बिल्कुल जाएं, जिसको जाना है वो जाएं. हम किसी को रोकना नहीं चाहते हैं.

खुशामद में विश्वास नहीं करता: कमलनाथ

उन्होंने फिर कहा कि अगर वो (कांग्रेस नेता एवं पदाधिकारी) जाना चाहते हैं, अपना भविष्य सोचते हैं और विचार भाजपा से मिलते हैं, तो मैं उनको अपनी मोटर (कार) दूंगा, जाइये मेरी कार में जाइये. पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि मैं किसी की खुशामद में विश्वास नहीं करता. उन्होंने कहा कि जो लोग कांग्रेस में काम कर रहे हैं, वे पार्टी के प्रति निष्ठा से काम कर रहे हैं और पार्टी की ओर से उन पर कोई दबाव नहीं है.

अरुणोदय चौबे ने छोड़ी कांग्रेस

मालूम हो कि दो दिन पहले ही मध्यप्रदेश के पूर्व विधायक और कमलनाथ के करीबी अरुणोदय चौबे ने कांग्रेस से इस्तीफा दिया है. इस पर उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा नेताओं द्वारा अरुणोदय चौबे पर दबाने का प्रयास कई महीने से चल रहा था. लगातार उनके बयान भी सामने आ रहे थे. अरुणोदय चौबे के खिलाफ कई मामले दायर कर दिये गए थे.

फर्जी केस लगाओ, फिर दबाव बनाओ

पूर्व सीएम ने कहा कि अरुणोदय को तीन-चार महीने पहले ही पार्टी से निष्कासित कर दिया था. वह पंचायत और नगरीय निकाय चुनाव में कांग्रेस विरोधी काम कर रहे थे. उन्होंने मुझे फोन करके बताया था कि उनके ऊपर दबाव है. अरुणोदय के खिलाफ धारा 307 से लेकर 302 तक के केस दर्ज हैं. पहले फर्जी केस लगाओ, फिर पार्टी में शामिल करने का दबाव बनाओ, यही बीजेपी की नीति है.

ये भी पढ़ें



इनपुट – भाषा

Leave a Reply

Your email address will not be published.