Bihar: कुंवर सिंह विजयोत्सव में अमित शाह की मौजूदगी में बनेगा वर्ल्ड रिकार्ड, जगदीशपुर में एक साथ लहराएंगे 75 हजार तिरंगे

Amit Shah

23 अप्रैल को आरा के जगदीशपुर (Arrah Jagdishpur) गांव में वीर कुंवर सिंह की जयंती भव्य रूप से मनाई जाएगी. इस कार्यक्रम को कुंवर सिंह विजयोत्सव नाम दिया गया है. कार्यक्रम में शामिल होने के लिए केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह शनिवार 23 तारीख को बिहार पहुंच रहे हैं. अमित शाह के स्वागत में पटना शहर पोस्टर से पटा पड़ा है. शाह पहले शुक्रवार की शाम पटना पहुंचने वाले थे. लेकिन उनके तय कार्यक्रम में बदलाव हुआ है और वह 22 की जगह अब 23 तारीख को पटना पहुंच रहे हैं. पटना एयरपोर्ट से वह सीधे आरा के लिए रवाना होंगे.
अमित शाह आजादी के अमृत महोत्सव में 1857 की क्रांति के दौरान बाबू वीर कुंवर सिंह के अंग्रेजों पर जीत हासिल करने की स्मृति में मनाया जाने वाला विजयोत्सव समारोह में शिरकत करेंगे.

दुलौर गांव में बनेगा रिकॉर्ड

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह भोजपुर जिले के बाबू वीर कुंवर सिंह के ऐतिहासिक किले में आयोजित कार्यक्रम में करीब दो घंटे तक रहेंगे. यहां उन्हें माल्यार्पन करने के बाद वह मुख्य कार्यक्रम स्थल जो जगदीशपुर से दो किलोमीटर दूर आरा-मोहनियां मार्ग पर दुलौर गांव जाएंगे. जगदीशपुर में जगह कम पड़ने की वजह से दुलौर गांव में मुख्य कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है.

एक साथ 75 हजार राष्ट्रीय ध्वज लहराएंगे

दुलौर गांव में गृहमंत्री अमित शाह की उपस्थिति में वहां एक साथ 75 हजार राष्ट्रीय ध्वज फहराकर वर्ल्ड रिकार्ड बनाया जाएगा. इसके पहले एक साथ 57500 राष्ट्रीय ध्वज फहराने का वर्ल्ड रिकॉर्ड पाकिस्तान के नाम दर्ज है. रिकार्ड बनाने के लिए कार्यक्रम में शामिल होने वाले लोगों को प्रवेश के दौरान राष्ट्रीय ध्वज दिया जाएगा. इसके लिए पटवा और दूसरे शहरों से झंडे मंगाए जा रहे हैं. जबकि झंडों में लगने वाला डंडा असम से मंगाया गया है. इसके बाद कार्यक्रम के दौरान गृहमंत्री अमित शाह की उपस्थिति में एक साथ 75 हजार तिरंगा फहराकर गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड में स्थान बनाया जाएगा.

अभी पाकिस्तान के नाम है रिकॉर्ड

इधर गृहमंत्री अमित शाह के कार्यक्रम की तैयारियों का जायजा लेने पहुंचे गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने कहा कि 23 अप्रैल को आरा के जगदीशपुर में एक साथ 75 हजार से ज्यादा लोग तिरंगा के साथ मौजूद रहकर वर्ल्ड रिकार्ड बनाने का काम करेंगे. इससे पहले पाकिस्तान में 57500 राष्ट्रीय ध्वज एक साथ फहराए गए थे. उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम को लेकर लोगों का पूरा सहयोग मिल रहा है. सामाजिक और धार्मिक संस्थाएं भी इस कार्यक्रम को सफल बनाने में मदद कर रही है.

Similar Posts