Bengal Bison Death: जलपाईगुड़ी के चाय बागान में चीता के बाद अब हुई 3 बायसन की मौत, मचा हड़कंप

Bengal Bison Death In North Bengal

उत्तर बंगाल के जलपागुड़ी जिले ( Jalpaiguri ) के डूआर्स चाय बागान इलाके में एक चीता का मृत देह मिलने के बाद बुधवार दोपहर को तीन मृत बायसन मिलने से इलाके में हड़कंप मच गया है. यह मामला हल्दीबाड़ी चाय बागान इलाके की है. मराघाट रेंज और बिन्नागुरी वन्यजीव दस्ते के वन कर्मियों (Forest Officers) को सूचित किया गया. उन्होंने मृत बायसन के शव को जब्त कर लिया है. वन अधिकारियों के अनुसार मृत बायसन (Bison) में एक मां और दो शावक हैं. मराघाट रेंज में खट्टीमारी बिट का सीएमजी 12 कंपार्टमेंट और हल्दीबाड़ी चाय बागान के सेक्शन 4 के बीच से बायसन के शव बरामद किए गए हैं. आरंभिक अनुमान है कि बिजली गिरने से बायसन की मौत हुई है. हालांकि पोस्टमार्टम होने तक कुछ नहीं कहा जा सकता है.

मराघाट रेंज के रेंजर राजकुमार पाल ने बताया कि जंगल के बीच में तीन बायसन मृत पड़े मिले. मौके पर पहुंचकर वनकर्मियों ने उन्हें बरामद किया और शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा रहा है.

डुआर्स के चाय बागान में सुबह मिला था चीता का शव

https://www.youtube.com/watch?v=P4x-8xwRFJQfeature=emb_title

इस बीच, सोमवार को डुआर्स के एक चाय बागान से एक चीता का शव मिला था. इस घटना से बनारहाट प्रखंड में हड़कंप मच गया. वन विभाग के अधिकारियों के अनुसार डायना चाय बागान में बुधवार की सुबह बागान में मजदूर पहली बार काम पर गए थे.उन्होंने देखा कि एक पूर्ण विकसित नर चीता मृत पड़ा हुआ है. तुरंत मामले को बागान अधिकारियों को इसकी जानकारी दी गई. फिर वन अधिकारियों को सूचित किया. इसकी सूचना बिन्नागुरी वन्यजीव दस्ते के कर्मचारियों को दी गई. सूचना मिलते ही वह मौके पर पहुंचे और मृत चीता को जब्त किया.

मृत पशुओं के मामले की शुरू हुई जांच

वन अधिकारियों के अनुसार डायना टी गार्डन के सेक्शन 3 में तेंदुए का शव मिला था. हालांकि, मौत का कारण अभी स्पष्ट नहीं है। शुरुआत में, वनकर्मियों ने अनुमान लगाया कि तेंदुए की मौत जहर से हुई होगी. हालांकि बिना पोस्टमार्टम के मौत के सही कारणों का पता नहीं चल सका है. लतागुरी पहले ही तेंदुए का शव बरामद कर चुकी है. बिन्नागुरी दस्ते के रेंजर शुभाशीष रॉय ने कहा कि पूरे मामले की जांच की जा रही है कि पोस्टमार्टम के बाद तेंदुए को दफना दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि वन विभाग हर पहलु पर जांच कर रहा है. यह देखा जा रहा है कि कहीं यह पशु तस्करी से जुड़ा हुआ मामला तो नहीं है. इस बारे में स्थानीय लोगों से भी पूछताछ शुरू की गई है.

Similar Posts