Automatic Car Tips: नई ऑटोमेटिक कार वाले रखें खास ख्याल, ड्राइव करते हुए कभी न करें ये गलतियां

Automatic

आम लोगों में ऑटोमेटिक कार (Automatic Car) का क्रेज खासा बढ़ रहा है. हालिया दौर में ऑटोमेटिक कारों की बिक्री में इजाफा हुआ है. ऑटोमेटिक कार को चलाना बेहद आसान होता है लेकिन इसकी मेंटिनेंस का ध्यान रखना पड़ता है. शहर के भीषण ट्रैफिक में ऑटोमेटिक कार एक वरदान साबित होती है लेकिन इसको चलाने के दौरान ड्राइवर्स अक्सर कुछ गलतियां कर बैठते हैं. ये मामूली सी गलतियां आपकी ऑटोमेटिक कार पर भारी पड़ सकती हैं. आइए जानते हैं कि वो कौन सी छोटी छोटी पांच गलतियां हैं, जो ऑटोमेटिक कार चलाने वाले ड्राइवर्स को नहीं करनी चाहिए?

1. स्लोप के दौरान न्यूट्रल पर चलाना

कई बार ड्राइवर्स स्लोप पर कार को चलाते हुए न्यूट्रल पर कर लेते हैं. ऐसा करने से कार के ऑयल की सप्लाई रुक जाती है और ट्रांसमिशन को लूब्रिकेंट मिलना बंद हो जाता है. आसान शब्दों में समझें तो ऐसा करने से सिस्टम डैमेज होता है. ऑटोमेटिक कार को न्यूट्रल पर स्लोप से नहीं उतारना चाहिए.

2. टैंक में कम फ्यूल

हमें याद रखना चाहिए कि ऑटोमेटिक कार फ्यूल प्रेशर पर डिपेंड होती है. इसके चलते वो आसानी से चलती हैं. फ्यूल की मदद से इंजन और दूसरे पार्ट्स लूबिक्रेंट से ठीक रहते हैं. लगातार फ्यूल कम रहने से इंजन के कंपोनेंट्स पर नकारात्मक प्रभाव रहता है.

3. इंजन को वॉर्मअप किए बगैर चलाना

ऐसा आमतौर पर सर्दी के मौसम में किया जाता है. लेकिन ऑटोमेटिक कार के लिए भी जरूरी है कि इंजन का स्टार्टकरके थोड़ी देर वॉर्मअप किया जाए फिर थोड़ी देर बाद ड्राइव शुरू की जाए. ऐसा न करने से इंजन पर नकारात्मक असर पड़ता है.

4. ट्रैफिक में कार को न्यूट्रल रखना

अक्सर ड्राइवर अपनी कार के फ्यूल को बचाने के लिए कार को न्यूट्रल में कर लेते हैं. हालांकि इस बात से कम ही लोग परिचित है कि ड्राइव मोड में ब्रेक लगाने पर इंजन को कम नुकसान होता है. डैमेज तब ज्यादा होता है जब आप मोड चेंज करके न्यूट्रल मोड में लाते हैं.

5. चलती कार में मोड शिफ्ट

ऑटोमेटिक कार का इंजन गियर वाली कार की तुलना में काफी अलग होता है. ड्राइवर को कार चलाते वक्त याद रखना चाहिए कि उसे कार चलाते वक्त कार के मोड में बदलाव नहीं करने चाहिए. सही सलाह ये है कि पहले कार को ब्रेक मारकर रोका जाए फिर इसके बाद मोड को चेंज किया जाए.

Similar Posts